Breaking News
आईपीएल 2024- एलिमिनेटर मुकाबले में आज रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु से भिड़ेगी राजस्थान रॉयल्स
एफपीपीसीए नियम के तहत बिजली के बिल में छह पैसे प्रति यूनिट की होगी बढ़ोतरी
मोदी राज में भारतीय सेना और सीमा दोनों ही सशक्त और सुरक्षित हुए- अनुराग ठाकुर
1 जुलाई से देशभर में लागू होने वाले तीन नए आपराधिक कानूनों के लिए उत्तराखंड पूरी तरह तैयार, जानिए क्या है यह तीन कानून  
फिल्म मिस्टर एंड मिसेज माही का दूसरा गाना ‘अगर हो तुम’ जारी, जाह्नवी कपूर और राजकुमार राव की दिखी खूबसूरत केमिस्ट्री
दिव्यांग विद्यार्थियों को परीक्षा में मिलेगा अतिरिक्त समय
हद से ज्यादा आम खाना सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदायक
कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने मनोज तिवारी की चुनाव रणनीति को दिया फाइनल टच 
जेजेपी को वोट देने का मतलब अपने वोट को खराब करना- सीएम धामी

24 घंटे में वनाग्नि के 40 मामले आए सामने, 70 हेक्टेयर क्षेत्र को पहुंचा नुकसान 

प्रदेश में अब तक 1385 हेक्टेयर जंगल को हुआ नुकसान 

देहरादून। उत्तराखंड में मंगलवार के मुकाबले बुधवार को वनाग्नि की घटनाओं में कुछ कमी दर्ज की गई। बीते 24 घंटे में 40 मामले सामने आए हैं, जिनमें करीब 70 हेक्टेयर जंगल आग की चपेट में आया। अपर प्रमुख वन संरक्षक निशांत वर्मा के मुताबिक बुधवार को गढ़वाल मंडल में वनाग्नि की 13, कुमाऊं मंडल में 25 और वन्यजीव क्षेत्रों में दो घटनाएं सामने आईं। इसमें 69.73 हेक्टेयर जंगल आग की चपेट में आया। उधर, छह से आठ मई के बीच गढ़वाल वन प्रभाग में वायु सेना के एमआई-17 हेलीकॉप्टर की मदद से 44,600 लीटर पानी का छिड़काव किया गया।

इसका असर वनाग्नि की घटनाएं कम होने के तौर पर सामने आया। अब तक प्रदेश में वनाग्नि की 1038 घटनाएं सामने आई हैं, जिनमें 1385 हेक्टेयर जंगल को नुकसान हुआ है। उधर, वनाग्नि के मामलों में अब तक वन विभाग ने 417 वन अपराध दर्ज किए हैं, जिनमें अज्ञात के खिलाफ 356, ज्ञात के खिलाफ 61 मामले शामिल हैं। इनमें नामजद आरोपियों की संख्या 75 है। नौ मामलों में मुकदमा दर्ज किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top