Breaking News
उत्तराखंड के प्रसिद्ध इतिहासकार डॉ. यशवंत सिंह कठोच पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित 
दांत दर्द और मुंह की बदबू से हैं परेशान, तो हो सकती है शरीर में इन विटामिंस की कमी
ऑर्डिनेटर राजीव महर्षि के नेतृत्व में कांग्रेसी नेताओं ने लिया ईवीएम की सुरक्षा का जायजा
मोदी सरकार ने जनजातीय समाज को देश की मुख्यधारा से जोड़ा- महाराज
पर्यावरण संरक्षण आज के समय की बड़ी जरुरत
मुख्य सचिव ने केदारनाथ धाम के कार्यों का लिया जायजा
जोमैटो से खाना मंगाना हुआ महंगा, जानिए कितना प्रतिशत बढ़ा चार्ज
लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने एक और लिस्ट की जारी, जानें- किसे कहां से दिया टिकट
आईपीएल 2024 के 38वें मैच में आज राजस्थान रॉयल्स से भिड़ेगी मुंबई इंडियंस

पीएम मोदी पहुंचे भूटान, हुआ भव्य स्वागत, दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय मामलों पर होगी चर्चा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शुक्रवार को पड़ोसी देश भूटान में दो दिन की यात्रा के लिए पहुंच चुके हैं। ये एक राजकीय यात्रा हैं। भूटान पहुंचते ही पीएम मोदी ने भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक और उनके पिता जिग्मे सिंग्ये वांगचुक से मुलाकात की।

सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिनों के लिए भूटान पहुंचे हैं। शनिवार को वो वापिस दिल्ली में लौटेंगे। भूटान के एयरपोर्ट पर पहुंचते ही पीएम मोदी का भव्य स्वागत किया गया। पीएम मोदी की ये यात्रा ‘पड़ोसी प्रथम नीति’ पर आधारित है। बता दें कि विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने मंगलवार यानी 19 मार्च को यह सूचना दी थी कि भारत और भूटान एक अनूठी साझेदारी साझा करने जा रहा है, जो आपसी विश्वास, समझ और सद्भावना पर आधारित है। जानकारी के मुताबिक गुरुवार यानी 22 मार्च को पीएम मोदी के लिए भूटान रवाना हो रहे थे, लेकिन खराब मौसम की वजह से उनकी यात्रा स्थगित कर दी गई थी।

पीएम नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर ट्वीट करते हुए कहा कि मैं आज भूटान के लिए रवाना हो रहा हुं, जहां भारत-भूटान के संबंधों को मजबूती देने के उद्देश्य से विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने जा रहा हुं। भूटान दौरे के दौरान पीएम मोदी भूटान के महामहिम राजा, महामहिम चतुर्थ ड्रुक ग्यालपो और प्रधानमंत्री शेरिंग टोबगे के साथ कई द्विपक्षीय मामलों पर चर्चा करेंगे।

बता दें कि विदेश मंत्रालय के बयान के अनुसार भारत और भूटान एक अनूठी साझेदारी साझा करने जा रहा है, जिसका मकसद आपसी संबंधों को मजबूती देना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top