Breaking News
आम चुनाव से पहले ऋषि सुनक को तगड़ा झटका, 78 सांसदों ने दिया इस्तीफा
राजकोट अग्निकांड का मुख्य आरोपी धवल ठक्कर राजस्थान से गिरफ्तार
प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी पर लगाए गंभीर आरोप, बोलीं- ‘हिमाचल में सरकार गिराने के लिए किया था धन-बल का इस्तेमाल’
सावधान- तेजी से पतला होने के शार्टकट्स में कहीं जकड़ न ले यह गंभीर बीमारी, जानिए दवा के साइड इफैक्ट्स  
सूर्या की कांगुवा में दिखेगा जबदस्त एक्शन, हॉलीवुड के एक्शन और सिनेमेटोग्राफी एक्सपर्ट्स ने संभाली कमान
अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से झटका, नहीं बढ़ सकेगी अंतरिम जमानत
नीलकंठ मंदिर से करीब दो किलोमीटर पहले झाड़ियां में मिला युवती का शव, चुन्नी से गला घोटकर की गई हत्या 
150 तरीके के होते हैं सिर दर्द, सबसे खतरनाक होता है माइग्रेन, जानें इसका कारण और बचाव
चारधाम यात्रा- बीमार व चोटिल घोड़े- खच्चरों का नहीं किया जाएगा प्रयोग

पेट में गैस बनने से बीपी हो सकता है हाई

खराब लाइफस्टाइल और खानपान में गड़बड़ी के कारण अक्सर हाई बीपी की समस्या होती है।  हाई बीपी एक दिन में शुरू नहीं होती है बल्कि यह कई खराब लाइफस्टाइल और खानपान का नतीजा होता है। ब्लड प्रेशर हाई होने से चक्कर आना, शरीर में सुस्ती छाना, कमजोरी, धुंधला दिखाई देना, सीने में दर्द जैसी परेशानियां होती है. हाई बीपी को हाइपरटेंशन भी कहा जाता है। जब नसों में ब्लड का प्रेशर बढ़ता है तो गंभीर परेशानियां होती है. जिसके कारण गैस या गैस्ट्रिक प्रॉब्लम होती है. इन सब के कारण हाई बीपी की समस्या हो सकती है।

बीपी दो तरह की होती एक में बीपी हाई तो एक में लॉ हो जाती है.हाई बीपी में ब्लड का प्रेशर बढ़ जाता है जिसके कारण हाइपरटेंशन की शिकायत हो जाती है. ब्लड प्रेशर बढऩे के कई कारण हो सकते हैं. कई कारणों से हाई बीपी ट्रिगर हो सकती है. पेट में एसिड का बैलेंस बिगडऩे के कारण भी हो सकता है। ब्लड प्रेशर की वजह से पेट में गैस की दिक्कत हो सकती है।

ब्लड प्रेशर कम है या ज्यादा तो उसके सही माप से ही पता चलता है. ब्लड प्रेशर चेक करने के लिए सिस्टोलिक और डायस्टोलिक आंकड़ों को देखा जाता है. ब्लड प्रेशर की सामान्य रीडिंग 120 एमएमएचजी और डायास्टोलिक – 80 एमएमएचजी है.अगर यह रेंज सिस्टोलिक – 130 से 139 एमएमएचजी के बीच और डायास्टोलिक – 80 से 90 एमएमएचजी के बीच हो जाती है। तो इसे हाई बीपी समझा जाता है। हाई बीपी होने पर सिर में तेज दर्द होता है। बीपी बढऩे से जो प्रेशर बनता है, उससे सिर में झनझनाहट होने लगती है। खूब की रफ्तार तेज हो जाती है और दिल तेजी से काम करने लगता है. इस वजह से सिरदर्द की समस्या हो सकती है।

सीढिय़ां चढ़ते या चलते समय सांस फूले तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. जब दिल अच्छी तरह से काम नहीं करता है, तब यह समस्या होती है. ऐसे में ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होती है और हर काम में मेहनत लगती है। नाक से खून आने को अनदेखा न करें. हाई बीपी की वजह से ऐसा हो सकता है। दरअसल, जब ब्लड प्रेशर हाई होता है, तब नाक की पतली-पतली झिल्लियों के फटने का खतरा रहता है. ऐसे में नाक से खून आने लगता है. तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top