Breaking News
मुख्यमंत्री धामी ने चम्पावत को आदर्श जनपद बनाने के लिए बनाई जा रही कार्ययोजना और कार्यों की समीक्षा की
अब सैमसंग वॉलेट के जरिये कर सकेंगे फ्लाइट, बस, फिल्में और इवेंट की टिकट बुकिंग
मुख्य सचिव से सीआरपीएफ के प्रशिक्षु अधिकारियों ने की शिष्टाचार भेंट
कृषि मंत्री बनते ही एक्शन में शिवराज सिंह चौहान, इन प्रस्तावों को दी मंजूरी
महाराज ने आपदा प्रभावित ग्राम सुकई के परिवारों को राहत सामग्री की वितरित
बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 49 लोगों की मौत, मृतकों में 40 भारतीय
मुख्य सचिव ने 383.11 करोड़ रूपये के प्रोजेक्ट तत्काल नाबार्ड को भेजने के दिए सख्त निर्देश 
रोजाना खाली पेट कच्चा लहसुन खाने से मिल सकते हैं कई स्वास्थ्य लाभ
पीएम मोदी आज करेंगे तीसरे कार्यकाल का पहला विदेश दौरा, इटली के लिए होंगे रवाना 

यूसीसी विधेयक की नियमावलियों का ड्राफ्ट तैयार करेगी नयी समिति

पूर्व मुख्य सचिव बने नौ सदस्यीय समिति के अध्यक्ष

देखें समिति के सदस्यों के नाम

देहरादून। बीते सात फरवरी को प्रदेश की विधानसभा से यूसीसी विधेयक पारित होने के बाद सरकार ने एक नयी समिति का गठन किया है। विशेष सचिव रिद्धिम अग्रवाल की ओर से जारी आदेश में कहा गया कि नौ सदस्यीय समिति समान नागरिक संहिता, उत्तराखण्ड, 2024 विधयेक से संबंधित नियमावलियों का आलेख्य (ड्राफ्ट) तैयार करेगी।

देखें आदेश

समान नागरिक संहिता, उत्तराखण्ड, 2024 विधयेक से संबंधित नियमावलियों का आलेख्य (ड्राफ्ट) तैयार किये जाने हेतु निम्नवत् समिति का गठन किये जाने की राज्यपाल सहर्ष स्वीकृति प्रदान करते हैं:-

1.  शत्रुघ्न सिंह, सेवानिवृत्त मुख्य सचिव अध्यक्ष

2.  सुधीर सिंह, अपर सचिव, न्याय, उत्तराखण्ड शासन सदस्य

3. अपर सचिव, कार्मिक, उत्तराखण्ड शासन पदेन सदस्य

4. अपर सचिव, पंचायती राज, उत्तराखण्ड शासन पदेन सदस्य

5. अपर सचिव, शहरी विकास, उत्तराखण्ड शासन पदेन सदस्य

6. अपर सचिव, वित्त, उत्तराखण्ड शासन पदेन सदस्य

7. बरिंदरजीत सिंह, पुलिस उप महानिरीक्षक, प्रशिक्षण सदस्य

8. श्रीमती सुरेखा डंगवाल, कुलपति, दून विश्वविद्यालय सदस्य

9-  मनु गौड़, सामाजिक कार्यकर्ता सदस्य

02- उक्त समिति द्वारा समान नागरिक संहिता, उत्तराखण्ड, 2024 विधेयक के प्राविधानों के सफल क्रियान्वयन हेतु नियमावलियों का ड्राफ्ट तैयार किया जायेगा, जिसमें विभिन्न प्रक्रियाओं, सक्षम स्तर के प्राधिकारियों एवं प्रस्तावित अधिनियम के प्रावधानों को सुगमता से लागू किये जाने विषयक तथ्यों का समावेश किया जाय।

03- उक्त समिति के सदस्यों को उपरोक्त कार्यों हेतु कोई भी भत्ता देय नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top