Monday, May 16, 2022
Home उत्तराखंड महिला गंगा आरती जानकीपुल पूर्णानंद घाट में महिलाओं ने वसंत पंचमी उत्सव...

महिला गंगा आरती जानकीपुल पूर्णानंद घाट में महिलाओं ने वसंत पंचमी उत्सव मनाया

 

*महिला गंगा आरती जानकीपुल पूर्णानंद घाट में महिलाओं ने वसंत पंचमी उत्सव मनाया*

*सितार वादन की प्रस्तुति से मन मोहा*

*महिलाओं द्वारा की जा रही में डॉ. ज्योति शर्मा के सितार ने भरे सात सुरों के रंग*

5 फरवरी। आज ऋषिकेश गंगा आरती ट्रस्ट, जानकीपुल पूर्णानंद घाट में महिलाओं द्वारा की जा रही गंगा आरती में महिलाओं वसंत पंचमी हर्षाेल्लास से मनाया गया। जहां लोगों को हवन कुंड में आहुति डालकर अपने सुखमय जीवन की मंगल कामना की, वहीं वसंत पंचमी की शुभकामनाएं भी दी।

ऋषिकेश गंगा आरती ट्रस्ट की प्रबंधक सुशीला सेमवाल ने कहा कि वसंत को सभी ऋतुओं का राजा कहा जाता है। इस ऋतु की पंचमी का विशेष महत्व है। “वसंत पंचमी” प्रकृति के अद्भुत सौन्दर्य, श्रृंगार और संगीत की मनमोहक ऋतु यानी ऋतुराज के आगमन की सन्देश वाहक है। वसंत पंचमी के दिन से शरद ऋतु की विदाई के साथ पेड़-पौधों और प्राणियों में नवजीवन का संचार होने लगता है। प्रकृति नवयौवना की भांति श्रृंगार करके इठलाने लगती है।
डॉ. ज्योति शर्मा ने मां सरस्वती वंदना एवं देश भक्ति गीत प्रस्तुत करके लोगों का मन मोह लिया।

डॉ. ज्योति शर्मा ने कहा सिखों के दसवें गुरु गुरु गोविंद सिंह का जन्म भी वसंत पंचमी के दिन ही हुआ था इसलिए ये त्यौहार सिखों के लिए भी महत्व पूर्ण ह। आजकल की भाषा में कहें तो वसंत प्रकृति का सालाना मेकओवर होता है। वसंत पंचमी सिखाती है कि पुराने के अंत के साथ ही नए का सृजन भी होता है। उन्होंने कहा कि ऋग्वेद में भगवती सरस्वती का वर्णन करते हुए कहा गया है कि प्रणो देवी सरस्वती वाजेभिर्वजिनीवती धीनामणित्रयवतु। अर्थात ये परम चेतना हैं। सरस्वती के रूप में ये हमारी बुद्धि, प्रज्ञा तथा मनोवृत्तियों की संरक्षिका हैं। हममें जो आचार और मेध है उसका आधार भगवती सरस्वती ही हैं। इनकी समृद्धि और स्वरूप का वैभव अद्भुत है। पुराणों के अनुसार श्रीकृष्ण ने सरस्वती से खुश होकर उन्हें वरदान दिया था कि वसंत पंचमी के दिन तुम्हारी भी आराधना की जाएगी और इस तरह भारत के कई हिस्सों में वसंत पंचमी के दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा होने लगी।
वसंत ऋतु आते ही प्रकृति का कण-कण खिल उठता है। मानव तो क्या पशु-पक्षी तक उल्लास से भर जाते हैं। हर दिन नई उमंग से सूर्योदय होता है और नई चेतना प्रदान कर अगले दिन फिर आने का आश्वासन देकर चला जाता है। यों तो माघ का यह पूरा मास ही उत्साह देने वाला है, पर वसंत पंचमी का पर्व भारतीय जनजीवन को अनेक तरह से प्रभावित करता है। प्राचीनकाल से इसे ज्ञान और कला की देवी मां सरस्वती का जन्मदिवस माना जाता है। जो शिक्षाविद भारत और भारतीयता से प्रेम करते हैं, वह इस दिन मां शारदे की पूजा कर उनसे और अधिक ज्ञानवान होने की प्रार्थना करते हैं।
कलाकारों का तो कहना ही क्या ? जो महत्व सैनिकों के लिए अपने शस्त्रों और विजयादशमी का है, जो विद्वानों के लिए अपनी पुस्तकों और व्यास पूर्णिमा का है, जो व्यापारियों के लिए अपने तराजू, बाट, बही खातों और दीपावली का है, वही महत्व कलाकारों के लिए वसंत पंचमी का है। चाहे वह कवि हों या लेखक, गायक हों या वादक, नाटककार हों या नृत्यकार, सब अपने दिन की शुरुआत अपने उपकरणों की पूजा और मां सरस्वती की वंदना से करते है।

RELATED ARTICLES

पौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई.

खापौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि युवक की एक महीने...

महिला को बनाया गुलदार ने निवाला

पौड़ी विकासखंड पाबौ के अंतर्गत आने वाले स्पलोडी में आज देर शाम एक महिला को गुलजार ने अपना निवाला बना दिया। प्राप्त...

पौड़ी में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को राजेन्द्र...

में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई.

खापौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि युवक की एक महीने...

महिला को बनाया गुलदार ने निवाला

पौड़ी विकासखंड पाबौ के अंतर्गत आने वाले स्पलोडी में आज देर शाम एक महिला को गुलजार ने अपना निवाला बना दिया। प्राप्त...

पौड़ी में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को राजेन्द्र...

में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को...

चारधाम यात्रा- 2022 हेतु यात्रियों के स्वास्थ्य हेतु दिशा निर्देश

*चारधाम यात्रा- 2022 हेतु यात्रियों के स्वास्थ्य हेतु दिशा निर्देश (Health Advisory)* चारधाम यात्रा- 2022 के लिये मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर उत्तराखण्ड...

दुनियां के साथ बैठकर ही पर्यटन की बात करनी पड़ती है: महाराज

  *11 मई-2022* *दुनियां के साथ बैठकर ही पर्यटन की बात करनी पड़ती है: महाराज* *पर्यटन की असीम संभावनाओं को देखते हुए उत्तराखंड आने के इच्छुक इन्वेस्टर* देहरादून/दुबई।...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुड गर्वनेंस के संबंध में अधिकारियों को दिये महत्वपूर्ण निर्देश

*अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति तक पहुंचे गुड गर्वनेंस : सीएम* *तहसील दिवसों, बहुद्देशीय शिविरों में लोगों की समस्याओं का निस्तारण मौके पर ही हो* *अधिक...

दुबई में बोले महाराज उत्तराखण्ड को मिला है अपार प्राकृतिक सुंदरता का उपहार

*10 मई-2022* *दुबई में बोले महाराज उत्तराखण्ड को मिला है अपार प्राकृतिक सुंदरता का उपहार* देहरादून/दुबई। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा है कि उत्तराखंड को...

नाजायज किसी के साथ भी कोई कार्यवाही नहीं करेगा नगर निगम- मेयर गामा

पशुपालन डेयरी वालो की समस्याओं को लेकर दून के मेयर को सौंपा ज्ञापन नाजायज किसी के साथ भी कोई कार्यवाही नहीं करेगा नगर निगम -...

राहगीरों के लिए शुरू किया ‘पत्रकार राजेंद्र जोशी स्मृति प्याऊ’

राहगीरों के लिए शुरू किया ‘पत्रकार राजेंद्र जोशी स्मृति प्याऊ’ - उत्तरांचल प्रेस क्लब ने स्व. जोशी की पहली पुण्यतिथि पर उनके साथ ही दिवंगत...

श्री केदारनाथ धाम के खुले कपाट, शुक्रवार प्रात: 6.25 मिनट पर विधि-विधान से खोले गए कपाट

श्री केदारनाथ धाम यात्रा 2022 • श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुले। शुक्रवार प्रात: 6.25 मिनट पर विधि-विधान से खुले कपाट। • 10 हजार से अधिक...