Saturday, January 28, 2023
Home हेल्थ प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान में उत्तराखंड का उत्कृष्ट प्रदर्शन, नि-क्षय मित्र...

प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान में उत्तराखंड का उत्कृष्ट प्रदर्शन, नि-क्षय मित्र पंजीकरण में देशभर में तीसरे स्थान पर उत्तराखंड

देहरादून। टीबी मुक्त उत्तरखंड के लिये राज्य सरकार तमाम प्रयास कर रही है। जिसका नतीजा है कि प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के अंतर्गत नि-क्षय मित्र पंजीकरण में उत्तराखंड राष्ट्रीय स्तर पर तीसरे पायदान पर काबिज है। जबकि प्रथम व द्वितीय स्थान पर उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश राज्य हैं। सूबे में टीबी रोगियों के उपचार में सहायता प्रदान करने के लिये अब तक 2917 पंजीकरण हो चुके हैं, जिनमें विभिन्न संस्थाएं, सहकारी समितियां और व्यक्तिगत रूप से सैकड़ों लोग शामिल हैं। वर्तमान में प्रदेशभर में 14769 टीबी रोगियों का उपचार किया जा रहा है जिनमें से 11753 रोगियों ने प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के तहत सामुदायिक सहायता प्राप्त करने की सहमति दी है।

प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के तहत उत्तराखंड में अब तक 2917 लोगों ने नि-क्षय मित्र बनने के लिये पंजीकरण किया है। उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश के बाद उत्तराखंड देश का तीसरा राज्य हैं जहां नि-क्षय मित्र के लिये सर्वाधिक पंजीकरण किया गया है। सूबे के अल्मोड़ा जनपद में 286, बागेश्वर में 53, चमोली में 118, चम्पावत में 79, देहरादून में 266, पौड़ी में 303, हरिद्वार में 192, नैनीताल में 439, पिथौरागढ़ में 213, रूद्रप्रयाग में 62, टिहरी गढ़वाल 206, ऊधम सिंह नगर में 563 और उत्तरकाशी में 137 नि-क्षय मित्रों का पंजीकरण किया गया है। पंजीकृत नि-क्षय मित्रों को स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्थानीय स्तर पर टीबी मरीज उपलब्ध कराये जा रहे हैं। अभी तक विभाग द्वारा अल्मोड़ा में 251, बागेश्वर में 32, चमोली में 98, चम्पावत में 70, देहरादून में 208, पौड़ी में 208, हरिद्वार में 146, नैनीताल में 203, पिथौरागढ़ में 61, रूद्रप्रयाग में 59, टिहरी गढ़वाल178, ऊधम सिंह नगर में 219 और उत्तरकाशी में 112 नि-क्षय मित्र लिंकेज किये हैं।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में 14769 टीबी रोगी पंजीकृत हैं। जिसमें से 11753 रोगियों ने प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के तहत सामुदायिक सहायता प्राप्त करने की सहमति प्रदान की है जो कि कुल पंजीकृत टीबी रोगियों का 83 फीसदी है। प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के तहत प्रत्येक नि-क्षय मित्रों को एक-एक टीबी रोगी को गोद लेकर उनके उपचार में सहयोग प्रदान करना है। भारत सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के तहत प्रत्येक नि-क्षय मित्र को गोद लिये गये टीबी रोगी की समय-समय पर देखभाल करने सहित प्रत्येक माह अतिरिक्त पोषण हेतु फूड बास्केट उपलब्ध करानी होगी। हालांकि सरकार द्वारा टीबी मारीजों को प्रत्येक माह रूपये 500 पोषण भत्ते के रूप में उपलब्ध कराई जाती है।

मंत्री जी का बयान-
उत्तराखंड को वर्ष 2024 तक टीबी मुक्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। टीबी को हराने के लिये प्रदेशभर में वृहद पैमाने में जनजागरूता अभियान संचालित किये जा रहे हैं। साथ ही प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के तहत टीबी मरीजों को पर्याप्त पोषक भोजन उपलब्ध कराने के लिए जनभागीदारी सुनिश्चित की गई है। कोई भी व्यक्ति, एनजीओ, नेता, राजनीतिक दल या कारपोरेट हाउस नि-क्षय मित्र बन कर टीबी मरीजों को गोद ले सकता है। हमारी कोशिश है कि हम नि-क्षय मित्र की भूमिका निभाकर जल्द से जल्द उत्तराखंड को टीबी मुक्त करें।
– डॉ0 धन सिंह रावत, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री, उत्तराखंड सरकार।

RELATED ARTICLES

मुंहासों से राहत पाने के लिए इन 5 तरीकों से इस्तेमाल करें हाइड्रोजन पेरोक्साइड

मुंहासे त्वचा के अतिरिक्त सीबम यानी प्राकृतिक तेल का उत्पादन करने से होते हैं। मुंहासे हार्मोनल असंतुलन, असंतुलित जीवनशैली, आनुवांशिकी और बैक्टीरिया के कारण...

पत्तागोभी का जूस डाइट में करें शामिल, मिलेंगे ये 5 प्रमुख लाभ

पत्तागोभी कई पोषक तत्वों से भरपूर होती है और इसका जूस अपनी डाइट में शामिल करने से आपको स्वास्थ्य संबंधित कई लाभ मिल सकते...

क्या आपने कभी खाया है डूरियन फल? जानिए इससे मिलने वाले फायदे

डूरियन फल कटहल की तरह दिखता है, लेकिन यह उससे काफी छोटा होता है। इसका बाहरी हिस्सा सख्त और नुकीला है, जबकि अंदर से...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सीएम धामी ने लक्ष्मण विद्यालय इंटर कॉलेज, पथरीबाग में स्कूली बच्चों के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा- 2023’ कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

विद्यार्थियों को आगामी बोर्ड परीक्षाओं की दी शुभकामना। तनाव मुक्ति एवं समय प्रबंधन से हर चुनौती का सामना किया जा सकता है- मुख्यमंत्री। राज्य के विभिन्न...

हिमाचल प्रदेश में खिला धूप, लेकिन दुश्वारियां बरकरार, चार नेशनल हाईवे समेत 219 सड़कें अवरुद्ध

हिमाचल। प्रदेश में मौसम तो खुल गया है लेकिन दुश्वारियां बरकरार हैं। सूबे में चार नेशनल हाईवे समेत 219 सड़कें अवरुद्ध हैं। रोहतांग दर्रा नेशनल...

जिला पंचायत अध्यक्ष की मिलीभगत से हुआ टेंडर प्रक्रिया में भ्रष्टाचार- सतपाल महाराज

देहरादून। नंदा राजजात जैसी धार्मिक और पवित्र यात्रा जिसमें श्रद्धालु दान देते हैं उसकी टेंडर प्रक्रिया में हेराफेरी और मिलीभगत बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मामले की...

राहुल गांधी के नेतृत्व में चल रही यात्रा कांग्रेस नेता की छवि बनाने के लिए नहीं, बल्कि देश की स्थिति और माहौल को बदलने...

जम्मू- कश्मीर। नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला शुक्रवार को बनिहाल में भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व...

उत्‍तराखंड में ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम में 5464 स्कूलों में किया जा रहा पीएम मोदी की मास्टर क्लास का सजीव प्रसारण

देहरादून। उत्‍तराखंड में 'परीक्षा पर चर्चा' कार्यक्रम में 5464 स्कूलों में पीएम नरेन्‍द्र मोदी की मास्टर क्लास का सजीव प्रसारण किया गया, इसके लिये बच्चों...

भारत और न्‍यूजीलैंड के बीच आज खेला जाएगा तीन टी20 इंटरनेशनल मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला

नई दिल्ली। भारत और न्‍यूजीलैंड के बीच आज तीन टी20 इंटरनेशनल मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला रांची के जेएससीए अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट स्‍टेडियम पर खेला...

इंदौर में लगातार सामने आ रहे पशु क्रूरता के मामले, लसूड़िया थाना क्षेत्र में एक कुत्ते को छठवें माले से गिराकर मारने का मामला...

मध्य प्रदेश।  इंदौर में पशु क्रूरता के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। इसी सिलसिले में इंदौर के लसूड़िया थाना क्षेत्र में एक कुत्ते को...

उत्तराखंड रोडवेज बसों का संचालन ठप, यात्रियों की बढ़ी परेशानियां

देहरादून। उत्तराखंड रोडवेज की बसों का संचालन शुक्रवार को ठप है। देहरादून, ऋषिकेश, हरिद्वार, रुड़की, कोटद्वार और श्रीनगर डिपो से अब तक किसी बस का...

दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम सेल ने तीन शहरों में छापेमारी कर तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार

दिल्ली- एनसीआर। दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम सेल ने तीन शहरों दिल्ली, गुरुग्राम और फतेहाबाद में छापेमारी के बाद तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। बाहरी-उत्तरी...

बीएमसी चुनाव की घोषणा कभी भी

बृहन्नमुंबई महानगर निगम यानी बीएमसी चुनाव की घोषणा किसी भी समय हो सकती है। पक्ष और विपक्ष दोनों की तैयारियां पूरी हो गई हैं।...