Tuesday, May 17, 2022
Home अंतर्राष्ट्रीय बाल दिवस पर 'उफ्फ ये बच्चे' लेखिका सुनीता चौहान की कलम से

बाल दिवस पर ‘उफ्फ ये बच्चे’ लेखिका सुनीता चौहान की कलम से

लेखिका सुनीता चौहान की कलम से……

बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ 💐

उफ्फ ये बच्चे🙂…….

चलो कुछ देर के लिए ही सही
बच्चो की दुनिया में रम जाये
छल-प्रपंच से भरे मन
संभवतः हल्के हो जाये

जब मेरे ज़हन में पंक्तियाँ आयी थी,तब मेरा मन कल्पना के
रंग में रंगा हुआ था या शायद अपने बचपन के समय को महसूस किया था।पर क्या आज के परीप्रेक्ष्य में यह संभव है कि हम बच्चो के किसी समूह में जाये और सारे बच्चे खुशी से चहकते मिले।
किसी भी तरह का तनाव,दबाव,हताशा,कुंठा उनके कोमल मन में न हो?
जवाब हम सभी जानते है।आज नर्सरी से लेकर स्कूल कालेजों
तक बस नम्बरों की होड़ है।नम्बरों के बोझ तले बचपन की मासूमियत,सरलता,स्वाभाविकता कहीं खो गयी है।
छोटी सी उम्र और खेलने-कूदने के वक्त को सीमित धागो में
बांध दिया ,और भारी-भरकम किताबों की दुनिया में
धकेल दिया जाता है।जो बचपन प्रकृति के सानिध्य में रहकर
फूलों सा खिल सकता,पंछियों के कलरव सा चहक सकता था
उसे हमने किताबों की जंग का सिपाही बना दिया।नन्हे मासूम
मनो की परतों पर कब पढ़ाई का तनाव,दबाव बढ़ता चला गया
मालूम ही नही पड़ा।
हमने सफलता के नये मापदंड तैयार कर लिये।90%प्रतिशत
या उससे अधिक नम्बरों की मार्गसीट सफलता की गारंटी
मानी जाने लगी।
आश्चर्य तो तब होता है जब रिपोर्टकार्ड देखकर माता पिता के
प्यार का ग्राफ घटता-बढ़ता रहता है।
आज हर माँल,बड़ी दुकानों में माता-पिता मंहगे खिलौने ब्रांडेड
कपड़े खरीदते हुए दिखाई देते है।बच्चो के मन में मंहगी चीजो
के प्रति आकषर्ण हम ही पैदा करते है। आज हममें से कितने लोग अपने बच्चों को बाजारों की चमक धमक से दूर प्रकृति
के करीब लेकर जाते है।शायद उनकी संख्या न के बराबर है।
हम बच्चों को 👶👶किताबों से ए फार एप्पल और अ से
अनार तो सिखाते है,किन्तु अपने घरों में या आस-पास लगे
पेड़ पौधे,फूल 🌺🌻🌹🌷पत्तियाँ,फलो से उनका परिचय
कराना भूल जाते है,किताबों की दुनिया में ले जाते हुए जाने
अनजाने प्रकृति🌿🍃 की कक्षा से उनको दूर ले जाते है।
और ज्ञान के अपरिमित बहते स्तोत्र को नजरअंदाज
कर बैठते है,,और फिर प्रकृति के विपरीत जाने
परिणाम भुगतते है।
हम खुद ही उनके सामने भौतिकता के रस में डूबी चीजें परोस
रहे,फिर जब उनके मानसिक,शारीरिक स्वास्थ्य पर कुप्रभाव
पड़ता है तो समझ नही पाते ये क्या हो रहा है?
कहाँ खो गया वो बचपन जब मन किसी भेदभाव को नही मानता
था,दो़स्ती ब्रांडेड चीजो की मोहताज नही थी,उनकी आंखो में
अजनबी के लिए भी विश्वास झलकता था।
बहुत कुछ बदल रहा है ,निश्चित तौर पर बदलाव विकास का सोपान है,पर बचपन की मासूमियत का यूं बदलना या यूँ कहे कि
बचपन का वक्त से पहले परिपक्व होना क्या आने वाले समय के लिए शुभ संकेत है?या हमें खुद के आंकलन की जरूरत आन पडी़ है,भौतिकतावादी सोच जो हमारे भीतर फल-फूल रही है,उसमें अंकुश लगाने को जरूरत है।
आखिर हमारे विचारों की तरंगो से हमारे नौनिहाल तो प्रभावित
होते ही है।तो क्यों न कुछ ऐसा संकल्प ले जिससे उनकी मासूमियत बची रहे।

RELATED ARTICLES

मेरु मुल्क चौंदकोट संस्था ने सतपुली के मलेठी में मनाई राजेंद्र धस्माना की पुण्यतिथि।

मेरु मुल्क चौंदकोट संस्था ने सतपुली के मलेठी में मनाई राजेंद्र धस्माना की पुण्यतिथि।संपूर्ण गांधी वांग्मय के प्रधान संपादक,दूरदर्शन के पूर्व संपादक,...

पौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई.

खापौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि युवक की एक महीने...

महिला को बनाया गुलदार ने निवाला

पौड़ी विकासखंड पाबौ के अंतर्गत आने वाले स्पलोडी में आज देर शाम एक महिला को गुलजार ने अपना निवाला बना दिया। प्राप्त...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मेरु मुल्क चौंदकोट संस्था ने सतपुली के मलेठी में मनाई राजेंद्र धस्माना की पुण्यतिथि।

मेरु मुल्क चौंदकोट संस्था ने सतपुली के मलेठी में मनाई राजेंद्र धस्माना की पुण्यतिथि।संपूर्ण गांधी वांग्मय के प्रधान संपादक,दूरदर्शन के पूर्व संपादक,...

पौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई.

खापौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि युवक की एक महीने...

महिला को बनाया गुलदार ने निवाला

पौड़ी विकासखंड पाबौ के अंतर्गत आने वाले स्पलोडी में आज देर शाम एक महिला को गुलजार ने अपना निवाला बना दिया। प्राप्त...

पौड़ी में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को राजेन्द्र...

में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को...

चारधाम यात्रा- 2022 हेतु यात्रियों के स्वास्थ्य हेतु दिशा निर्देश

*चारधाम यात्रा- 2022 हेतु यात्रियों के स्वास्थ्य हेतु दिशा निर्देश (Health Advisory)* चारधाम यात्रा- 2022 के लिये मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर उत्तराखण्ड...

दुनियां के साथ बैठकर ही पर्यटन की बात करनी पड़ती है: महाराज

  *11 मई-2022* *दुनियां के साथ बैठकर ही पर्यटन की बात करनी पड़ती है: महाराज* *पर्यटन की असीम संभावनाओं को देखते हुए उत्तराखंड आने के इच्छुक इन्वेस्टर* देहरादून/दुबई।...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुड गर्वनेंस के संबंध में अधिकारियों को दिये महत्वपूर्ण निर्देश

*अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति तक पहुंचे गुड गर्वनेंस : सीएम* *तहसील दिवसों, बहुद्देशीय शिविरों में लोगों की समस्याओं का निस्तारण मौके पर ही हो* *अधिक...

दुबई में बोले महाराज उत्तराखण्ड को मिला है अपार प्राकृतिक सुंदरता का उपहार

*10 मई-2022* *दुबई में बोले महाराज उत्तराखण्ड को मिला है अपार प्राकृतिक सुंदरता का उपहार* देहरादून/दुबई। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा है कि उत्तराखंड को...

नाजायज किसी के साथ भी कोई कार्यवाही नहीं करेगा नगर निगम- मेयर गामा

पशुपालन डेयरी वालो की समस्याओं को लेकर दून के मेयर को सौंपा ज्ञापन नाजायज किसी के साथ भी कोई कार्यवाही नहीं करेगा नगर निगम -...

राहगीरों के लिए शुरू किया ‘पत्रकार राजेंद्र जोशी स्मृति प्याऊ’

राहगीरों के लिए शुरू किया ‘पत्रकार राजेंद्र जोशी स्मृति प्याऊ’ - उत्तरांचल प्रेस क्लब ने स्व. जोशी की पहली पुण्यतिथि पर उनके साथ ही दिवंगत...