Monday, May 16, 2022
Home अंतर्राष्ट्रीय छठ अनुष्ठान सादगी और स्वच्छता का प्रतीक - स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी...

छठ अनुष्ठान सादगी और स्वच्छता का प्रतीक – स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज

 

*भगवान सूर्य की उपासना, आस्था का महापर्व छठ पूजा की सभी को सपरिवार मंगलकामनाएँ*

*छठ पर्व भगवान सूर्य की आराधना का पर्व*

*‘छठ अनुष्ठान सादगी और स्वच्छता का प्रतीक’-पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज*

*ऋषिकेश, 10 नवम्बर।* परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने देशवासियों को छठ पूजा की शुभकामनायें देते हुये कहा कि छठ पूजा का चार दिवसीय अलौकिक अनुष्ठान हम सभी को प्रकृति से जोड़ता है तथा प्रकृति के संरक्षण-संवर्धन का संदेश देता है। यह पर्व सामाजिक समरसता का प्रतीक है। कहा जाता है कि जिसका ‘उदय’ होता है, उसका ‘अस्त’ होना तय है! लेकिन ‘छठ पर्व’ सिखाता है, जो ‘अस्त’ होता है, उसका ‘उदय’ निश्चित है। यह एकमात्र ऐसा त्योहार है जिसमें न केवल उगते सूर्य की पूजा की जाती है बल्कि सूर्यास्त यानी उषा एवं प्रत्यूषा की भी पूजा की जाती है।
छठ एक प्राचीन हिंदू वैदिक त्योहार है जो ऐतिहासिक रूप से भारतीय उपमहाद्वीप में श्रद्धा पूर्वक मनाया जाता है। छठ पूजा एक लोक त्योहार है जो चार दिनों तक चलता है। यह कार्तिक शुक्ल की चतुर्थी से शुरू हो कर सप्तमी को समाप्त होता है।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि छठ का पावन पर्व सूर्य देवता और षष्ठी देवी को समर्पित चार दिवसीय अनुष्ठानपरक आयाम है जो नहाय-खाय, खरना से शुरू होता है तथा छठ पूजा और सूर्य देव को अघ्र्य देकर अनुष्ठान का समापन किया जाता है। इस पर्व के माध्यम से श्रद्धालु भगवान सूर्य की पहली किरण – उषा और शाम की आखिरी किरण – प्रत्युषा के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट करते हैं। ब्रह्मांड में भगवान सूर्य ही ऊर्जा के प्रथम स्रोत है उनके कारण ही पृथ्वी पर जीवन संभव हो पाता है।
छठ का अनुष्ठान हमें जीवन में नियम और निष्ठा तथा श्रद्धा और समर्पण का संदेश देता है। पौराणिक कथाओं में उल्लेख मिलता है कि मगध सम्राट जरासन्ध के पूर्वज रोगग्रस्त हो गये थे जिससे मुक्ति के लिये शाकलद्वीपीय ब्राह्मणों ने सूर्योपासना की थी, तभी से मगध क्षेत्र बिहार में छठ के अवसर पर सूर्योपासना का प्रचलन प्रारम्भ हुआ। पौराणिक अनुश्रुतियों के अनुसार राजा शर्याति की पुत्री सुकन्या और च्यवन ऋषि का भी उल्लेख मिलता है। ‘ब्रह्मवैवर्तपुराण’ में छठ पर्व का उल्लेख मिलता है।
छठ पूजा भारतीय सभ्यता और संस्कृति की ऐतिहासिक पहचान है। पर्व हमारी सांस्कृतिक धरोहर है जो जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिग, जल संरक्षण, परम्परागत जल-स्रोतों जैसे तालाब, सरोवर, नदियों आदि जल संस्थानों के संरक्षण और संवर्धन, जल संचयन और ‘वाटरहारवेस्टिंग’ आदि का संदेश देते हैं।

 

RELATED ARTICLES

पौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई.

खापौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि युवक की एक महीने...

महिला को बनाया गुलदार ने निवाला

पौड़ी विकासखंड पाबौ के अंतर्गत आने वाले स्पलोडी में आज देर शाम एक महिला को गुलजार ने अपना निवाला बना दिया। प्राप्त...

पौड़ी में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को राजेन्द्र...

में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई.

खापौड़ी में यात्री शेड के टूटने से एक युवक की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि युवक की एक महीने...

महिला को बनाया गुलदार ने निवाला

पौड़ी विकासखंड पाबौ के अंतर्गत आने वाले स्पलोडी में आज देर शाम एक महिला को गुलजार ने अपना निवाला बना दिया। प्राप्त...

पौड़ी में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को राजेन्द्र...

में पत्रकार उमेश डोभाल की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में त्रेपन सिंह चौहान को मरणोपरांत उमेश डोभाल स्मृति सम्मान,अनिल स्वामी को...

चारधाम यात्रा- 2022 हेतु यात्रियों के स्वास्थ्य हेतु दिशा निर्देश

*चारधाम यात्रा- 2022 हेतु यात्रियों के स्वास्थ्य हेतु दिशा निर्देश (Health Advisory)* चारधाम यात्रा- 2022 के लिये मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर उत्तराखण्ड...

दुनियां के साथ बैठकर ही पर्यटन की बात करनी पड़ती है: महाराज

  *11 मई-2022* *दुनियां के साथ बैठकर ही पर्यटन की बात करनी पड़ती है: महाराज* *पर्यटन की असीम संभावनाओं को देखते हुए उत्तराखंड आने के इच्छुक इन्वेस्टर* देहरादून/दुबई।...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुड गर्वनेंस के संबंध में अधिकारियों को दिये महत्वपूर्ण निर्देश

*अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति तक पहुंचे गुड गर्वनेंस : सीएम* *तहसील दिवसों, बहुद्देशीय शिविरों में लोगों की समस्याओं का निस्तारण मौके पर ही हो* *अधिक...

दुबई में बोले महाराज उत्तराखण्ड को मिला है अपार प्राकृतिक सुंदरता का उपहार

*10 मई-2022* *दुबई में बोले महाराज उत्तराखण्ड को मिला है अपार प्राकृतिक सुंदरता का उपहार* देहरादून/दुबई। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा है कि उत्तराखंड को...

नाजायज किसी के साथ भी कोई कार्यवाही नहीं करेगा नगर निगम- मेयर गामा

पशुपालन डेयरी वालो की समस्याओं को लेकर दून के मेयर को सौंपा ज्ञापन नाजायज किसी के साथ भी कोई कार्यवाही नहीं करेगा नगर निगम -...

राहगीरों के लिए शुरू किया ‘पत्रकार राजेंद्र जोशी स्मृति प्याऊ’

राहगीरों के लिए शुरू किया ‘पत्रकार राजेंद्र जोशी स्मृति प्याऊ’ - उत्तरांचल प्रेस क्लब ने स्व. जोशी की पहली पुण्यतिथि पर उनके साथ ही दिवंगत...

श्री केदारनाथ धाम के खुले कपाट, शुक्रवार प्रात: 6.25 मिनट पर विधि-विधान से खोले गए कपाट

श्री केदारनाथ धाम यात्रा 2022 • श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुले। शुक्रवार प्रात: 6.25 मिनट पर विधि-विधान से खुले कपाट। • 10 हजार से अधिक...