Tuesday, September 27, 2022
Home बिज़नेस बदल गया नियम! यूपीआई से पैसे ट्रांसफर करना हो सकता है महंगा,...

बदल गया नियम! यूपीआई से पैसे ट्रांसफर करना हो सकता है महंगा, डेबिट कार्ड ट्रांजेक्शन भी नहीं रहेगा फ्री

नई दिल्ली। भारत का अपना डिजिटल पेमेंट सिस्टम यूपीआई लॉन्च होने के बाद से ही बड़ा हिट साबित हुआ है। इसकी एक बड़ी वजह चुटकियों में पेमेंट सेटल हो जाना और इसके लिए कोई चार्ज नहीं लगना है। हालांकि आने वाले समय में स्थितियों में बदलाव देखने का मिल सकता है और लोगों को यूपीआई से पेमेंट करने के बदले चार्ज देना पड़ सकता है। रिजर्व बैंक ने इसे लेकर ‘डिस्कशन पेपर ऑन चार्जेज इन पेमेंट सिस्टम जारी किया है और इसपर लोगों से टिप्पणियां मंगाई है।

दरअसल रिजर्व बैंक पेमेंट सिस्टम्स के डेवलपमेंट और पेमेंट के सेटलमेंट के लिए तैयार की गई बुनियादी संरचना की लागत को वसूल करने के विकल्प तलाश रहा है। पेपर में कहा गया है कि यूपीआई भी आईएमपीएस की तरह एक फंड ट्रांसफर सिस्टम है। इस कारण यह तर्क दिया जा सकता है कि यूपीआई के लिए भी आईएमपीएस की तरह फंड ट्रांसफर ट्रांजेक्शन पर चार्जेज लगने चाहिए। रिजर्व बैंक ने कहा है कि अलग-अलग अमाउंट के हिसाब से अलग-अलग चार्जेज निर्धारित किए जा सकते हैं।

पेपर के अनुसार, यूपीआई एक फंड ट्रांसफर सिस्टम के रूप में पैसों का रिसल टाइम ट्रांसफर सुनिश्चित करता है। वहीं यह एक मर्चेंट पेमेंट सिस्टम के रूप में भी रियल टाइम सेटलमेंट सुनिश्चित करता है। इस सेटलमेंट को सुनिश्चित करने के लिए पीएसओ और बैंकों को पर्याप्त बुनियादी संरचना तैयार करने की जरूरत होती है, ताकि बिना किसी रिस्क के लेन-देन पूरा हो सके। इसके कारण सिस्टम पर अतिरिक्त खर्च आता है। आरबीआई ने आगे कहा है, ‘पेमेंट सिस्टम्स समेत किसी भी इकोनॉमिक एक्टिविटी में फ्री सर्विस के लिए किसी तर्क की कोई जगह नहीं है, बशर्ते वह लोगों की भलाई और देश के कल्याण के लिए नहीं हो। लेकिन सवाल यह उठता है कि इस तरह की बुनियादी संरचना को तैयार करने और उसका परिचालन करने में आने वाले भारी-भरकम खर्च का वहन कौन करेगा।’

रिजर्व बैंक ने यूपीआई के साथ ही डेबिट कार्ड से लेन-देन, आरटीजीएस , एनईएफटी आदि के लिए चार्जेज को लेकर भी लोगों से टिप्पणियां मांगी है। पेपर में कहा गया है कि अगर रिजर्व बैंक डेबिट कार्ड पेमेंट सिस्टम , आरटीजीएस पेमेंट और एनईएफटी पेमेंट के लिए चार्जेज वसूल करे तो यह अतार्किक नहीं होगा, क्योंकि इनके लिए बुनियादी संरचना तैयार करने में बड़ा निवेश किया गया है। इसे ऐसे नहीं देखा जाना चाहिए कि रिजर्व बैंक पैसे कमाने के विकल्प तलाश कर रहा है, बल्कि यह सिस्टम के डेवलपमेंट और ऑपरेशन के खर्च को वापस पाने का प्रयास है।

सेंट्रल बैंक ने कहा है कि आरटीजीएस के मामले में भी बड़ा निवेश किया गया है और इसे ऑपरेट करने में भी खर्च होता है। ऐसे में अगर रिजर्व बैंक ने आरटीजीएस पेमेंट पर चार्जेज लगाया है तो इसे कमाई करने का तरीका नहीं समझा जाना चाहिए। आरटीजीएस का इस्तेमाल बड़ी वैल्यू के ट्रांजेक्शंस में किया जाता है और आम तौर पर बैंक व बड़े वित्तीय संस्थान इसका इस्तेमाल करते हैं। क्या इस तरह के सिस्टम में, जिसमें बड़े संस्थान मेंबर हों, रिजर्व बैंक को फ्री में सर्विस प्रोवाइड करना चाहिए? इसी तरह एनईएफटी को लेकर पेपर में कहा गया है कि भले ही ऐसे ट्रांजेक्शंस को लोगों की भलाई वाली कैटेगरी में रखा जा सकता है और इसने पेमेंट को डिजिटल बनाने में मदद की है, लेकिन क्या शुरुआत के कुछ समय बाद भी ऐसे पेमेंट पर कोई चार्ज वसूल नहीं किया जाना चाहिए?

RELATED ARTICLES

कम हो सकते हैं एलपीजी सिलेंडर के दाम, सरकार ने दिए संकेत

नई दिल्ली। कुछ ही दिनों में नया महीना शरू हो जाएगा। नियमों के अनुसार हर महीने की पहली तारीख को गैस सिलेंडर के नए...

देश में पहली बार समंदर के नीचे दौड़ेगी बुलेट ट्रेन

मुंबई । मुंबई में देश का पहला अंडर वाटर सी टनल बनने जा रहा है। यानी समुद्र के नीचे सुरंग बनाई जाएगी और उसके...

देश के सबसे बड़े धनकुबेर बने गौतम अडानी, जानिए कितना है बैंक बैलेंस

नयी दिल्ली । अडाणी समूह के प्रमुख गौतम अडानी 10,94,400 करोड़ रुपये की कुल संपत्ति के साथ देश के सबसे बड़े धनकुबेर बन गये...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कम हो सकते हैं एलपीजी सिलेंडर के दाम, सरकार ने दिए संकेत

नई दिल्ली। कुछ ही दिनों में नया महीना शरू हो जाएगा। नियमों के अनुसार हर महीने की पहली तारीख को गैस सिलेंडर के नए...

हाथों को मॉइश्चराइज और मुलायम बनाए रखने में मदद कर सकते हैं ये पांच स्क्रब

चेहरे को निखारने के लिए लोग न जाने क्या कुछ नहीं करते हैं, लेकिन वे हाथ जैसे शरीर के अन्य अंगों पर ध्यान देना...

एक अक्टूबर से शुरू होगा सलमान का बिग बॉस 16, मेकर्स ने की घोषणा

काफी समय से कयास लगाए जा रहे थे बिग बॉस 16 का प्रसारण अक्टूबर में शुरू होगा। इस बार फिर शो को लेकर दर्शकों...

मोहन भागवत की नई पहल

वेद प्रताप वैदिक राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और अखिल भारतीय इमाम संघ के प्रमुख इमाम उमर इलियासी दोनों ही हार्दिक बधाई...

धामी सरकार अब उत्तराखंड में होम स्टे और रिसार्ट में कार्य करने वाली महिलाओं व बेटियों की सुरक्षा के लिए बनाने जा रही है...

देहरादून। अंकिता हत्याकांड से सबक लेते हुए सरकार अब उत्तराखंड में होम स्टे और रिसार्ट में कार्य करने वाली महिलाओं व बेटियों की सुरक्षा...

सीएम ने सचिवालय में लोक निर्माण विभाग की समीक्षा की

तय समय पर काम पूरे हों: सीएम पुष्कर सिंह धामी मानसखण्ड काॅरिडोर के काम में तेजी लाने के निर्देश सङको के पैचवर्क का काम जल्द पूरा...

वनन्‍तरा रिसॉर्ट से लापता प्रियंका का उत्तराखंड पुलिस ने लगाया पता, जानिए क्या है पूरे मामला का सच

देहरादून। वनन्तरा रिसॉर्ट अंकिता हत्याकांड के बाद से लगातार सुर्खियों में है। जब अंकिता हत्‍याकांड का मामला सामने आया तो स्‍थानीय लोगों ने रिसॉर्ट...

नवरात्र के पहले दिन धामी सरकार ने दिया 80 हजार बालिकाओं को 323 करोड़ 22 लाख रूपये का तोहफा

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्य सेवक सदन, मुख्यमंत्री आवास, देहरादून में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम...

धामी सरकार भर्तियों के लिए बनाने जा रही है सख्त नियमावली, सीएम ने कहा- युवाओं के साथ नहीं होने देंगे धोखा

देहरादून। उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्तियों के पेपर लीक होने और विधानसभा में बैकडोर एंट्री का मामला खुलने के बाद अब सरकार...

सहसपुर में नदी पर बने टापू पर फंसे कुछ लोग, SDRF ने बचाई जान

देहरादून। सहसपुर में नदी पर बने टापू पर कुछ लोग फंस गए, जिसकी सूचना आपदा कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा SDRF को दी गई, सूचना देते हुए...