Tuesday, September 27, 2022
Home ब्लॉग अपराधी नेताओं को सजा ?

अपराधी नेताओं को सजा ?

वेद प्रताप वैदिक

आजकल सर्वोच्च न्यायालय में एक बड़ी मजेदार याचिका पर बहस चल रही है। उसमें मांग की गई है कि जिस भी विधायक या सांसद को आपराधिक मामलों में सजा दी गई हो, उसे जीवन भर के लिए राजनीति से बाहर क्यों नहीं किया जाए? अभी 1951 के जन-प्रतिनिधित्व कानून के मुताबिक यदि किसी नेता को सजा मिलती है तो छह वर्ष तक वह न तो कोई चुनाव लड़ सकता है और न ही किसी राजनीतिक दल का पदाधिकारी बन सकता है।
छह साल के बाद वह चाहे तो फिर दनदना सकता है। अब यदि ऐसे नेताओं पर जीवन भर का प्रतिबंध लग जाए तो क्या हमारी राजनीति का शुद्धिकरण नहीं होगा? ऐसे कड़े प्रतिबंध के डर के मारे नेता लोग अपराध आदि करने से क्या बचे रहना नहीं चाहेंगे? इस याचिका को पेश करनेवाले अश्विन उपाध्याय का तर्क है कि यदि एक पुलिसवाला या कोई सरकारी कर्मचारी किसी अपराध में जेल भेज दिया जाता है तो उसकी नौकरी हमेशा के लिए खत्म हो जाती है या नहीं?

जहां तक नेता का सवाल है, उसके लिए राजनीति सरकारी नौकरी की तरह उसके जीवन-यापन का एक मात्र साधन नहीं होती है। वह तो जन-सेवा है। उसका शौक है। उसकी प्रतिष्ठा पूर्ति है। राजनीति से बाहर किए जाने पर वह भूखा तो नहीं मर सकता है। इस तर्क का समर्थन भारत के चुनाव आयोग ने भी किया है लेकिन चुनाव आयोग स्वयं तो किसी कानून को बदल नहीं सकता। उसके पास नया कानून बनाने का अधिकार भी नहीं है। ऐसे में सरकार चाहे तो वह कुछ ठोस पहल कर सकती है।
वह संसद में प्रस्ताव लाकर ऐसा कानून जरुर बना सकती है लेकिन कोई भी सरकार ऐसा कानून क्यों बनाना चाहेगी? यदि वह ऐसा कानून बना दे तो उसके कई बड़े-बड़े नेता राजनीति से बाहर हो जाएंगे। देश के अनेक केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, सांसद और विधायक साधारण अपराधियों की तरह जेल की हवा खा चुके हैं और कई तो अभी जेल में ही सड़ रहे हैं। मैं उनके नाम यहां नहीं गिना रहा हूं। यदि उनके विरुद्ध वैसा कानून बन गया तो देश की राजनीति में भूकंप आ जाएगा।

यह भी ठीक है कि कई नेताओं को उनकी विरोधी सरकारों ने बनावटी आरोपों के आधार पर सींखचों के पीछे धकेल दिया था। इसके अलावा यदि सत्तारुढ़ पार्टी अपने किसी प्रबल विरोधी नेता को राजनीति से बाहर करने के लिए इस कानून का सहारा ले लेगी तो कोई आश्चर्य क्यों होगा? इसीलिए इस याचिका पर फैसला देते हुए अदालत को कई मुद्दों पर विचार करना होगा।
बीच का रास्ता यह भी हो सकता है कि राजनीति से अपराधियों के निर्वासन की अवधि 6 साल से बढ़ाकर 10 साल कर दी जाए। 10 साल में तो अच्छे-खासे नेताओं की भी हवा खिसक जाती है। राजनीति को अपराधियों से मुक्त करना बहुत जरुरी है लेकिन वास्तविक पश्चात्ताप करनेवालों को दुबारा मौका क्यों नहीं दिया जा सकता है?

RELATED ARTICLES

विपक्षी राज्यों में राज्यपालों की भूमिका

अजीत द्विवेदी इससे पहले शायद ही कभी विपक्ष शासित राज्यों में सरकार और राज्यपाल का ऐसा टकराव देखने को मिला होगा, जैसा अभी देखने को...

लालू, नीतीश से कांग्रेस को उम्मीद

विपक्षी एकता में कांग्रेस की निश्चित रूप से एक भूमिका रहेगी। इसलिए जयराम रमेश को बार बार यह कहने की जरूरत नहीं है कि...

राहुल कांग्रेस की ताकत हैं या कमजोरी?

अजीत द्विवेदी यह यक्ष प्रश्न है कि राहुल गांधी कांग्रेस की ताकत हैं या उसकी कमजोरी? देश में शायद ही कोई व्यक्ति होगा, जिसकी कोई...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

धामी सरकार अब उत्तराखंड में होम स्टे और रिसार्ट में कार्य करने वाली महिलाओं व बेटियों की सुरक्षा के लिए बनाने जा रही है...

देहरादून। अंकिता हत्याकांड से सबक लेते हुए सरकार अब उत्तराखंड में होम स्टे और रिसार्ट में कार्य करने वाली महिलाओं व बेटियों की सुरक्षा...

सीएम ने सचिवालय में लोक निर्माण विभाग की समीक्षा की

तय समय पर काम पूरे हों: सीएम पुष्कर सिंह धामी मानसखण्ड काॅरिडोर के काम में तेजी लाने के निर्देश सङको के पैचवर्क का काम जल्द पूरा...

वनन्‍तरा रिसॉर्ट से लापता प्रियंका का उत्तराखंड पुलिस ने लगाया पता, जानिए क्या है पूरे मामला का सच

देहरादून। वनन्तरा रिसॉर्ट अंकिता हत्याकांड के बाद से लगातार सुर्खियों में है। जब अंकिता हत्‍याकांड का मामला सामने आया तो स्‍थानीय लोगों ने रिसॉर्ट...

नवरात्र के पहले दिन धामी सरकार ने दिया 80 हजार बालिकाओं को 323 करोड़ 22 लाख रूपये का तोहफा

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्य सेवक सदन, मुख्यमंत्री आवास, देहरादून में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम...

धामी सरकार भर्तियों के लिए बनाने जा रही है सख्त नियमावली, सीएम ने कहा- युवाओं के साथ नहीं होने देंगे धोखा

देहरादून। उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्तियों के पेपर लीक होने और विधानसभा में बैकडोर एंट्री का मामला खुलने के बाद अब सरकार...

सहसपुर में नदी पर बने टापू पर फंसे कुछ लोग, SDRF ने बचाई जान

देहरादून। सहसपुर में नदी पर बने टापू पर कुछ लोग फंस गए, जिसकी सूचना आपदा कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा SDRF को दी गई, सूचना देते हुए...

आज से शुरु हुए शारदीय नवरात्र

देहरादून। शारदीय नवरात्र आज से शुरू हो गए हैं। 26 सितंबर को सुबह छह बजकर 20 मिनट से 10 बजे तक का समय कलश स्थापना...

अंकिता हत्याकांड : हर एंगल से होगी जांच, फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई : सीएम

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि अंकिता हत्याकांड में सभी आरोपियों पर सख्त से सख्त कारवाई होगी। उन्होंने प्रदेश की जनता से...

अनियमित पीरियड्स की समस्या से निजात पाने के लिए करें इन 8 चीजों का सेवन

पीरियड्स अर्थात माहवारी हर महिला के जीवन का खास चक्र है। इसी की बदौलत एक महिला को मातृत्व सुख मिल पाता है। इस दौरान...

ब्रह्मास्त्र की सफलता के बाद और फिल्मों में साथ काम कर सकते हैं रणबीर-आलिया

ब्रह्मास्त्र की कामयाबी के बाद रणबीर कपूर और आलिया भट्ट सफलता के रथ पर सवार हैं। यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर जमकर कमाई कर...