Saturday, December 10, 2022
Home बिज़नेस भारत बॉन्ड ईटीएफ का चौथा चरण दिसंबर में शुरू होने की संभावना

भारत बॉन्ड ईटीएफ का चौथा चरण दिसंबर में शुरू होने की संभावना

नई दिल्ली।  सरकार दिसंबर में देश के पहले कॉरपोरेट बॉन्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड भारत बॉन्ड (ईटीएफ) का चौथी चरण शुरू करने की योजना बना रही है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। इसके जरिए जुटाई गई पूंजी का उपयोग सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों (सीपीएसई) द्वारा पूंजीगत व्यय के लिए किया जाएगा।

अधिकारी ने बताया, ‘‘अभी हम सीपीएसई के साथ चर्चा और उनकी जरूरतों का आकलन कर रहे हैं। भारत बॉन्ड ईटीएफ की चौथी किस्त या चरण के लिए निर्गम का आकार पिछले साल के आकार के करीब हो सकता है।” सरकार ने पिछले साल दिसंबर में 1,000 करोड़ रुपए का तीसरा चरण पेश किया था। इस दौरान इसे 6,200 करोड़ रुपए की बोलियों के साथ 6.2 गुना अधिक अभिदान मिला था। वर्ष 2019 में बॉन्ड ईटीएफ की पहली पेशकश की गई थी। सीपीएसई को इसके जरिए 12,400 करोड़ रुपए जुटाने में मदद मिली।

इसने दूसरे और तीसरे चरण में क्रमश: 11,000 करोड़ रुपए और 6,200 करोड़ रुपए जुटाए थे। ईटीएफ ने अबतक अपनी तीन पेशकशों में 29,600 करोड़ रुपए जुटाए हैं। भारत बॉन्ड ईटीएफ केवल सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के ‘एएए’ रेटिंग वाले बॉन्ड में निवेश करता है। एडलवाइस एसेट मैनेजमेंट इस योजना की पूंजी प्रबंधक है। ईटीएफ के प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियां 2019 से शुरू होने के बाद से अब तक 50,000 करोड़ रुपए के आंकड़े को पार कर गई हैं। वर्तमान में ईटीएफ के लिए पांच भिन्न-भिन्न परिपक्वता अवधि हैं…2023, 2025, 2030, 2031 और 2032…।.

RELATED ARTICLES

एयरटेल ने 184 देशों में यात्रा के लिये लांच किया ‘वर्ल्ड पास’ पैक

नयी दिल्ली । दूरसंचार सेवा कंपनी एयरटेल ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की सेवाओं को चालू रखने के लिये ‘एयरटेल वर्ल्ड पास’ लॉन्च किया है। एयरटेल ने...

एप्पल म्यूजिक जल्द ही कराओके मोड करेगा रोलआउट  

सैन फ्रांसिस्को। एप्पल म्यूजिक ने ‘एप्पल म्यूजिक सिंग’ नाम से एक नया कराओके मोड शुरू करने की योजना की घोषणा की है। कंपनी ने...

फिर विवादों में एलन मस्क , इंसानी दिमाग में चिप लगाने वाली कंपनी के खिलाफ जांच शुरू

वॉशिंगटन।  ट्विटर के मालिक और अरबपति कारोबारी एलन मस्क मुसीबत में फंसते नजर आ रहे हैं। इंसानी दिमाग में चिप लगाने का दावा करने...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने सिविल सेवा के 97वें कॉमन फाउंडेशन कोर्स के समापन समारोह को किया संबोधित

मसूरी । राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने शुक्रवार को लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी मसूरी में सिविल सेवा के 97वें कॉमन फाउंडेशन कोर्स के...

शादी के 10 दिन बाद हुई विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, जानिए पूरा मामला

देहरादून। शादी के 10 दिन बाद एक विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उसका शव पति की मौसी के घर फंदे पर...

एयरटेल ने 184 देशों में यात्रा के लिये लांच किया ‘वर्ल्ड पास’ पैक

नयी दिल्ली । दूरसंचार सेवा कंपनी एयरटेल ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की सेवाओं को चालू रखने के लिये ‘एयरटेल वर्ल्ड पास’ लॉन्च किया है। एयरटेल ने...

राष्ट्रपति ने नक्षत्र वाटिका का उद्धाटन कर किया पलाश पौधे का रोपण

देहरादून। महामहिम राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने शुक्रवार को उत्तराखण्ड प्रवास के दूसरे दिन प्रातः राजभवन स्थित राज प्रज्ञेश्वर महादेव मंदिर में विधिवत पूजा अर्चना...

शादी समारोह में तमंचे पर डिस्को करना पड़ा युवकों को भारी, पढ़िए पूरी खबर

हरिद्वार। हरिद्वार के श्यामपुर क्षेत्र में एक विवाह समारोह में दो युवकों को तमंचे लहराकर डिस्को करना भारी पड़ गया। एसएसपी अजय सिंह को भेजे...

युवक ने रचाईं तीन शादियां तो पत्नियों ने किया चौकी में हंगामा, जानिए पूरा मामला

कोटद्वार। कोतवाली में एक ऐसा दिलचस्प मामला सामने आया है जिसमें एक युवक ने बिना तलाक लिए दूसरी शादी कर ली। इसके बाद उसने दूसरी...

रेट्रो वॉकिंग क्या है और इससे कौन से 5 बड़े फायदे मिलते हैं?

रेट्रो वॉकिंग का मतलब पीछे की ओर यानी उल्टा चलना है और इसे रिवर्स वॉकिंग भी कहते हैं। नॉर्मल वॉकिंग की तुलना में यह...

हिमाचल में पांच साल बाद सरकार बदलने का रिवाज इस बार भी रहा कायम

शिमला। हिमाचल प्रदेश में विधानसभा की कुल 68 सीटें हैं और बहुमत के लिए 35 सीटों की आवश्यकता रहती होती है। अभी तक के...

कंगना रनौत ने चंद्रमुखी 2 की शूटिंग की शुरू, तस्वीर शेयर कर दी जानकारी

अभिनेत्री कंगना रनौत पिछले कुछ समय से चंद्रमुखी 2 को लेकर चर्चा में हैं। यह 2005 में आई तमिल फिल्म चंद्रमुखी का सीक्वल है।...

जीएम फसलों को ना कहना होगा

भारत डोगरा हाल के वर्षो में किसानों के संकट का एक बड़ा कारण यह है कि उनकी आत्मनिर्भरता और स्वावलंबिता में भारी गिरावट आई है...