Thursday, September 29, 2022
Home ब्लॉग भारत में बढ़ता भ्रष्टाचार

भारत में बढ़ता भ्रष्टाचार

अजय दीक्षित
भ्रष्टाचार और घपले-घोटालों के मद्देनजर देश के कई हिस्सों में जो छापेमारी जारी है, क्या वे भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्णायक जंग की प्रस्तावना हैं ? क्या हमारी जांच एजेन्सियां पूरी तरह स्वायत्त हैं और उन्हें कोई भी ‘राजनीतिक निर्देश’ नहीं दिये जाते ?  यदि स्वायत्त हैं, तो आपराधिक और गम्भीर मामले 10-15 सालों तक क्यों लटकते रहते हैं ? कभी तो कोई ठोस कारण देश के सामने पेश किया जाये ।

सभी कार्रवाइयां अंधेरी गुफाओं में की जाती रही हैं। विभिन्न मामलों के सन्दर्भ में एजेंसियां और अदृश्य रूप से सत्ताएं ‘प्रतिशोधी’ क्यों लगती हैं या विपक्ष के ऐसे आरोप पुख्ता लगते हैं ? उदाहरण के तौर पर लें लालू प्रसाद यादव कांग्रेस नेतृत्व की यूपीए सरकार-1 में रेल मंत्री थे। उन्होंने बिहार से 12 आवेदकों को रेलवे के 6 जोन में ग्रुप-डी की अस्थायी नौकरी मुहैया कराई ।  कोई विज्ञापन नहीं छपा और न ही कोई परीक्षा ली गई। सीधी नियुक्ति कर दी गई। बाद में वे स्थायी कर्मचारी भी बना दिए गए। तत्कालीन रेल मंत्री पर गंभीर आरोप थे कि उन्होंने नौकरी देने के बदले जमीनें औने-पौने दाम पर खरीदीं। ऐसी विवादास्पद जमीनें लालू की पत्नी राबड़ी देवी, उनकी बेटियों-मोसा भारती और हेमा यादव के नाम पंजीकृत हैं। 2008-09 का यह केस 2021 में सीबीआई ने प्राथमिक जांच के लिए दर्ज किया। कारण जो भी रहे हों, लेकिन यह केस आज तक किसी कानूनी निष्कर्ष तक नहीं पहुंच पाया है और न ही आरोपितों के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई की गई है। लालू यादव पहली बार किसी घोटाले में 1997 में जेल गए थे। तब केंद्र में संयुक्त मोर्चा की सरकार थी। प्रधानमंत्री देवगौड़ा रहे अथवा इंद्रकुमार गुजराल रहे हों, लेकिन मोर्चे का हिस्सा होने के बावजूद लालू को जेल जाना पड़ा। उसके बाद चारा घोटाले में अदालत ने लालू को सजायाफ्ता करार दिया। वह जेल जाते रहे, अस्पतालों में रहे और जमानत पर बाहर भी आते रहे।

सवाल यह है कि आपराधिक या घोटालों के केस इतने लंबे क्यों खींचे जाते हैं और उन पर सियासी दखल साफ क्यों दिखाई देता है? अब ख़बरें आ रही हैं कि झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर 100 करोड़ रुपए के अवैध खनन घपले की तलवार लटक रही है। दिल्ली सरकार में शराब नीति के तहत घोटाले में सीबीआई उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास और अन्य बीसियों ठिकानों पर छापे मार चुकी है। दिल्ली के ही स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ईडी के मामलों में मई माह से जेल में बंद हैं। बंगाल सरकार में वरिष्ठ मंत्री रहे पार्थ चटर्जी के सन्दर्भ में नकदी के पहाड़ और सोना आदि बरामद किये गये सीबीआई और ईडी दोनों ही अलग-अलग ढंग से जांच कर रहे हैं। क्या यह मामला किसी निष्कर्ष तक पहुंचेगा अथवा वक्त के साथ, साथ लटक कर भुला दिया जायेगा ? बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर आरोप हैं कि यह 53 संपत्तियों के मालिक है। जिस शख्स ने कॉरपोरेट में लाखों रुपये की नौकरी नहीं की और न ही कोई औद्योगिक विरासत उनके नाम दर्ज है, लिहाजा ऐसी धन-संपदा पर सवाल स्वाभाविक हैं । कमोवेश यह सामान्य मामला नहीं है।

जांच एजेन्सियों भ्रष्टाचार के आधे-अधूरे लटकते सत्यों को अंतिम यथार्थ तक कब पहुंचायेंगी ? भ्रष्टाचार के मामलों और करोड़ों नकदी की बरामदगी में आईएएस और आईपीएस जैसे शीर्ष अधिकारी भी जेलों में कैद हैं । एक दौर था कि कुछ भाजपा नेताओं के खिलाफ मोटे-मोटे घोटाले सुर्खियों में थे तब ये नेता कांग्रेस या किसी अन्य विपक्षी दल में थे। उनके खिलाफ सीबीआई और ईडी अचानक खामोश और निष्क्रिय क्यों हैं ? देश अब यह स्पष्टीकरण भी चाहता है। विपक्ष का यह गम्भीर आरोप रहता है, लिहाजा सरकार और एजेन्सियां उन्हें नजर अंदाज नहीं कर सकतीं । बहरहाल प्रधानमंत्री मोदी ने 15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस पर, लालकिले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए भ्रष्टाचार, परिवारवाद, वंशवाद के खिलाफ निर्णायक जंग लडऩे के लिए देश का समर्थन, सहयोग मांगा था। क्या उस संबोधन के गम्भीर मायने हैं ?

प्रधानमंत्री इन प्रमुख जांच एजेन्सियों के बिना भी यह जंग नहीं जीत सकते, लिहाजा स्पष्ट किया आए कि प्रधानमंत्री का दखल कितना रहता है या रहेगा ? भ्रष्टाचार और घोटालों पर सार्थक परिणति इसलिए भी अपेक्षित है, क्योंकि अंतत: आम करदाता का पैसा ही हजम किया जा रहा है। विपक्ष आरोप लगा रहा है कि सरकार ने अपने विरोधियों को मजा चखाने के लिए ईडी सीबीआई तथा आयकर विभाग को आगे कर दिया है । सरकारी जांच एजेंसियों के दुरुपयोग के आरोप भी लग रहे हैं । आम आदमी पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल तथा अन्य पार्टियां ऐसे आरोप लगाने वाली नई पार्टियां हैं, जबकि कांग्रेस काफी समय से इस तरह के आरोप लगा रही है। ही सरकारी एजेंसियों का दुरुपयोग हो रहा है, जनता इसका जवाब चाहती है । सरकार को इस सम्बन्ध में जनता को करना चाहिए कि वह सरकारी एजेंसियों के दुरुपयोग नहीं होने देगी। वैसे कांग्रेस जब सता में भी तब भाजपा भी इसी तरह के आरोप लगाती थी ।

RELATED ARTICLES

पुरानी पेंशन का चारा

पुरानी पेंशन योजना की समाप्ति का फैसला नव-उदारवादी नीतियों के कारण हुआ, जिन्हें देश ने लगभग आम सहमति के साथ स्वीकार कर लिया था।...

मोहन भागवत की नई पहल

वेद प्रताप वैदिक राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और अखिल भारतीय इमाम संघ के प्रमुख इमाम उमर इलियासी दोनों ही हार्दिक बधाई...

विपक्षी राज्यों में राज्यपालों की भूमिका

अजीत द्विवेदी इससे पहले शायद ही कभी विपक्ष शासित राज्यों में सरकार और राज्यपाल का ऐसा टकराव देखने को मिला होगा, जैसा अभी देखने को...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बड़ेथ के पास वाहन हुआ दुर्घटनाग्रस्त, SDRF ने 2 घायलों को किया रेस्क्यू

यमकेश्वर।  देर रात्रि थाना लक्ष्मणझूला द्वारा SDRF को सूचित किया गया कि ऋषिकेश से यमकेश्वर जाते समय यमकेश्वर रोड पर बड़ेथ के पास एक...

यूक्रेन के 15 फीसदी हिस्से पर कब्जे की तैयारी, राष्ट्रपति पुतिन करेंगे ऐलान

मॉस्को। रूस ने यूक्रेन के जिन इलाकों में कब्जा कर रखा है वहां जनमत संग्रह करवाया है। चार दिन चला यह जनमत संग्रह पूरा...

दक्षिण अफ्रीका टी20 शृंखला से बाहर हुए शमी

मुंबई। भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी कोरोनावायरस के कारण ऑस्ट्रेलियाई शृंखला के बाद दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होने वाली टी20 शृंखला से भी बाहर...

रिलायंस रिटेल ने खोला देश का पहला सेंट्रो स्टोर

नयी दिल्ली  ।  रिलायंस रिटेल ने सेंट्रो नाम से एक नए प्रकार के फैशन और लाइफस्टाइल स्टोर की शुरुआत की। इस स्टोर को मध्य...

कैलोरी बर्न करने का सबसे आसान तरीका है रस्सी कूदना, जानिए इसके बड़े स्वास्थ्य लाभ

रस्सी एक अच्छा कार्डियो व्यायाम है। रस्सी कूदने से तनाव कम होता है और मानसिक स्वास्थ्य बना रहता है। रस्सी कूदने से शरीर लचीला...

जहीर इकबाल के साथ म्यूजिक वीडियो में नजर आएंगी सोनाक्षी सिन्हा

बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा और जहीर इकबाल के रिश्ते की बातें लंबे समय से चल रही हैं। सोशल मीडिया पर अकसर दोनों की नजदीकियां...

शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए साइकिल मार्च

- 2 अक्टूबर को देहरादून से रामपुर तिराहा पहुंचेगा ‘प्रवासी-निवासी मार्च‘ - 20 शहरों के साइकिलिस्ट लेंगे भाग, एकजुट-एकमुट का प्रयास देहरादून। प्रवासी उत्तराखंडियों को एकजुट-एकमुट...

रुद्रप्रयाग में केदारनाथ से आगे मंदाकिनी ग्लेशियर में फंसा एक व्यक्ति, SDRF ने किया रेस्क्यू

रुद्रप्रयाग।  केदारनाथ पुलिस चौकी द्वारा SDRF को सूचित किया गया कि केदारनाथ धाम से 06 किमी आगे एक व्यक्ति मंदाकिनी ग्लेशियर के पास फंसा...

धामी सरकार ने तबादलों के नियम बदलकर दी कर्मचारियों को बड़ी राहत, जानिए नये नियमों से कैसे होंगे तबादले 

देहरादून। उत्तराखंड की धामी सरकार ने तबादलों के नियम बदलकल कर्मचारियों को बड़ी राहत दी है। राज्य में परिवहन, माध्यमिक शिक्षा, उच्च शिक्षा, सिंचाई,...

अंकिता भंडारी हत्याकांड: अभद्र टिप्पणी करने को लेकर गुस्साएं लोगों ने हरिद्वार- देहरादून हाइवे पर लगाया जाम

देहरादून। अंकिता भंडारी हत्याकांड को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े विपिन कर्णवाल की ओर से इंटरनेट मीडिया पर की गई अभद्र टिप्पणी को लेकर...