Tuesday, September 27, 2022
Home हेल्थ बहुत अधिक प्यास लगना भी देता हैं खतरे का संकेत, हो सकती...

बहुत अधिक प्यास लगना भी देता हैं खतरे का संकेत, हो सकती हैं ये बीमारियां

शरीर को पानी की पर्याप्त मात्रा की जरूरत होती हैं। रोजाना कम से कम 3-4 लीटर पानी पीना ही चाहिए। मानव शरीर में अपशिष्ट के उत्सर्जन के लिए पानी की आवश्यकता होती है। लेकिन कई बार देखने को मिलता हैं कि पानी पीने के बावजूद अनायास ही प्यास लगती रहती हैं तो यह सेहत के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। जी हां, बहुत अधिक प्यास लगना भी बीमारियों की ओर इशारा करता हैं। अगर आपको भी जरूरत से अधिक प्यास लग रही है तो इस बारे में सावधानी बरतने की आवश्यकता है। आज इस कड़ी में हम आपको बताने जा रहे हैं कि बार-बार प्यास लगने के कौन-कौन से कारण हो सकते हैं। इन्हें जानकर अपनी सेहत के प्रति सजग रहने की जरूरत हैं। आइये जानते हैं इनके बारे में…

डिहाइड्रेशन की स्थिति
यदि शरीर डिहाइड्रेशन की स्थिति में है, यानी कि शरीर में पानी की कमी हो गई है तो इसमें आपको अधिक प्यास लग सकती है। हालांकि यह समस्या ज्यादातर गर्मी के दिनों में देखने को मिलती है। गर्मी के मौसम में धूप के संपर्क में आने के कारण पसीने के रूप में शरीर का ज्यादातर पानी बाहर निकल जाता है, जिसके कारण इसकी कमी हो सकती है। डिहाइड्रेशन कुछ स्थितियों में गंभीर समस्याकारक भी हो सकती है जिसका विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए।

एंग्जायटी
सामान्य अर्थ में धडक़न का बढ़ जाना, बेचैनी और घबराहट का महसूस होना ही मेडिकल की भाषा में एंग्जायटी कहलाता है। ऐसी स्थिति में मुंह भी सूखने लगता है, जिस कारण व्यक्ति अधिक पानी पीता है। ऐसी स्थिति में कुछ एंजाइम मुंह में बनने वाली लार की मात्रा में भी कमी ला देते है, जिस कारण भी अधिक प्यास लग सकती है।

गर्भावधि मधुमेह का संकेत
बार-बार पानी पीने की जरूरत महसूस होना ज्यादातर गर्भवती महिलाओं में एक आम समस्या है। हालांकि, अगर यह जारी रहता है और गर्भावस्था के साथ बढ़ता जाता है तो अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लें क्योंकि यह गर्भावधि मधुमेह का संकेत भी हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान मधुमेह की समस्या का जोखिम अधिक होता है, इस बारे में विशेष सावधानी रखने की आवश्यकता होती है।

अपच
कई बार अधिक तेलयुक्त या मसालेदार भोजन खाने के बाद वह आसानी से नहीं पचता है। शरीर को गरिष्ठ भोजन पचाने के लिए अधिक पानी की जरूरत होती है। इससे शरीर में पानी की कमी होने लगती है और यह अत्यधिक प्यास की वजह हो सकती है।

डायबिटीज का संकेत
बार-बार प्यास लगना आपमें डायबिटीज रोग के विकसित होने का भी संकेतक हो सकता है। डॉक्टर्स बताते हैं जब ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है तो शरीर मूत्र के माध्यम से इसे स्वाभाविक तौर पर निकालने का प्रयास करता रहता है। बार-बार पेशाब जाने के कारण भी शरीर में पानी की कमी होने लगती है जिसके कारण भी आपको अधिक प्यास लगने लगती है। डायबिटीज एक गंभीर और दीर्घकालिक समस्या है जिसके रोकथाम को लेकर विशेष सावधानी बरतते रहने की आवश्यकता होती है।

स्लाइवा ग्लैंड का इनएक्टिव होना
मुंह में जब स्लाइवा ग्लैंड एक्टिव नहीं होता तो मुंह सूखने लगता है। इससे होंठ और गला भी सूखने लगते हैं। इससे प्यास का अहसास बार-बार होता है। कई बार ऐसा कुछ दवाओं के कारण भी होता है। दवांए स्लाइवा निकालना कम कर देती हैं। दवा खाने से मुंह का यह ग्लैंड बंद हो जाता हैं। इसके अलावा कैंसर जैसी कुछ बीमारियों में भी मुंह सूखने की समस्या होती है। स्लाइवा कम बनने से सांस की बदबू, स्वाद में परिवर्तन, मसूड़ों में दिक्कत, होने लगती है।

पॉलीडिप्सिया की समस्या
पॉलीडिप्सिया अत्यधिक प्यास की भावना है। पॉलीडिप्सिया अक्सर मूत्र संबंधी स्थितियों से जुड़ा होता है जिसके कारण आपको बहुत अधिक पेशाब आता है। बार-बार पेशाब के कारण शरीर में तरल पदार्थों की कमी को पूरा करने के लिए आपको अधिक प्यास लगने लगती है। यह शारीरिक प्रक्रियाओं के कारण भी हो सकता है जिसमें आप बहुत अधिक मात्रा में तरल पदार्थ खो देते हैं।

एनीमिया
शरीर में खून की कमी होने पर भी बार-बार प्यास लगने की समस्या होती है। ऐसा खून में रेड ब्लड सेल के कम बनने के कारण होता है। शरीर में जब पर्याप्त ऑक्सीजन की स्पलाई नहीं होती तो प्यास लगने की समस्या होने लगती है।

RELATED ARTICLES

हाथों को मॉइश्चराइज और मुलायम बनाए रखने में मदद कर सकते हैं ये पांच स्क्रब

चेहरे को निखारने के लिए लोग न जाने क्या कुछ नहीं करते हैं, लेकिन वे हाथ जैसे शरीर के अन्य अंगों पर ध्यान देना...

अनियमित पीरियड्स की समस्या से निजात पाने के लिए करें इन 8 चीजों का सेवन

पीरियड्स अर्थात माहवारी हर महिला के जीवन का खास चक्र है। इसी की बदौलत एक महिला को मातृत्व सुख मिल पाता है। इस दौरान...

शहद के इस्तेमाल से बनाए जा सकते हैं ये स्वादिष्ट व्यंजन, जानिए इनकी रेसिपी

शहद कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है और इसका नियमित सेवन करना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। अगर आप किसी भी व्यंजन...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

हाथों को मॉइश्चराइज और मुलायम बनाए रखने में मदद कर सकते हैं ये पांच स्क्रब

चेहरे को निखारने के लिए लोग न जाने क्या कुछ नहीं करते हैं, लेकिन वे हाथ जैसे शरीर के अन्य अंगों पर ध्यान देना...

एक अक्टूबर से शुरू होगा सलमान का बिग बॉस 16, मेकर्स ने की घोषणा

काफी समय से कयास लगाए जा रहे थे बिग बॉस 16 का प्रसारण अक्टूबर में शुरू होगा। इस बार फिर शो को लेकर दर्शकों...

मोहन भागवत की नई पहल

वेद प्रताप वैदिक राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और अखिल भारतीय इमाम संघ के प्रमुख इमाम उमर इलियासी दोनों ही हार्दिक बधाई...

धामी सरकार अब उत्तराखंड में होम स्टे और रिसार्ट में कार्य करने वाली महिलाओं व बेटियों की सुरक्षा के लिए बनाने जा रही है...

देहरादून। अंकिता हत्याकांड से सबक लेते हुए सरकार अब उत्तराखंड में होम स्टे और रिसार्ट में कार्य करने वाली महिलाओं व बेटियों की सुरक्षा...

सीएम ने सचिवालय में लोक निर्माण विभाग की समीक्षा की

तय समय पर काम पूरे हों: सीएम पुष्कर सिंह धामी मानसखण्ड काॅरिडोर के काम में तेजी लाने के निर्देश सङको के पैचवर्क का काम जल्द पूरा...

वनन्‍तरा रिसॉर्ट से लापता प्रियंका का उत्तराखंड पुलिस ने लगाया पता, जानिए क्या है पूरे मामला का सच

देहरादून। वनन्तरा रिसॉर्ट अंकिता हत्याकांड के बाद से लगातार सुर्खियों में है। जब अंकिता हत्‍याकांड का मामला सामने आया तो स्‍थानीय लोगों ने रिसॉर्ट...

नवरात्र के पहले दिन धामी सरकार ने दिया 80 हजार बालिकाओं को 323 करोड़ 22 लाख रूपये का तोहफा

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्य सेवक सदन, मुख्यमंत्री आवास, देहरादून में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम...

धामी सरकार भर्तियों के लिए बनाने जा रही है सख्त नियमावली, सीएम ने कहा- युवाओं के साथ नहीं होने देंगे धोखा

देहरादून। उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्तियों के पेपर लीक होने और विधानसभा में बैकडोर एंट्री का मामला खुलने के बाद अब सरकार...

सहसपुर में नदी पर बने टापू पर फंसे कुछ लोग, SDRF ने बचाई जान

देहरादून। सहसपुर में नदी पर बने टापू पर कुछ लोग फंस गए, जिसकी सूचना आपदा कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा SDRF को दी गई, सूचना देते हुए...

आज से शुरु हुए शारदीय नवरात्र

देहरादून। शारदीय नवरात्र आज से शुरू हो गए हैं। 26 सितंबर को सुबह छह बजकर 20 मिनट से 10 बजे तक का समय कलश स्थापना...