Friday, August 19, 2022
Home राष्ट्रीय भारत पहुंचेगा चीता और जंगल में शुरू हो जाएगी नई तरह की...

भारत पहुंचेगा चीता और जंगल में शुरू हो जाएगी नई तरह की जंग, वन रक्षकों की उड़ी है नींद

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश का कुनो नेशनल पार्क हमेशा टूरिस्ट को अपनी ओर आकर्षित करता रहा है। अब यहां अगले कुछ दिनों में चीतों की दहाड़ सुनाई देगी। इसी के साथ यहां एक खास जंग भी शुरू हो सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि यहां के जंगल में अंतर-महाद्वीपीय स्थानान्तरण के जरिए चीते लाने की तैयारी की जा रही है। हालांकि, चीतों के यहां आने से पहले इस जंगल में रहने वाले तेंदुओं को लेकर फॉरेस्ट ऑफिसर परेशान हैं। वजह ये है कि वन अधिकारियों को डर है कि दूसरे देश से आने वाले चीतों को अपने इलाके में जगह देने के लिए तेंदुए कतई तैयार नहीं होंगे। ऐसे में चीतों और तेंदुए के बीच जंग देखने को मिल सकती है। ऐसे हालात नहीं हों इसके लिए मध्य प्रदेश के वन अधिकारी तैयारी में जुटे हैं। सीसीटीवी कैमरे, बड़े-बड़े बाड़े, लंबे और ऊंचे टावर बनाए गए हैं। जिससे किसी भी विपरीत स्थिति से निपटा जा सके। कुनो नेशनल पार्क में चीतों के आने से पहले ही फॉरेस्ट अधिकारी सभी सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करना चाहते हैं। जिससे विदेश से आने वाले चीतों की यहां रहने वाले तेंदुओं से रक्षा की जा सके। यहां के जंगल में कई तेंदुए काफी बड़े आकार में हैं। इसी वजह से जंगल में 12 किलोमीटर लंबी और 9 फुट ऊंची बाड़ लगाई गई है, जिसमें बिजली का करंट भी छोड़ा गया है। इसके साथ ही 24Û7 सीसीटीवी के जरिए निगरानी की जाएगी। इसके साथ ही ड्रॉप डोर पिंजड़ा भी बनाया गया है। इस कवायद की वजह है कि चीतों को उनके नए घर में बसने के लिए कुछ हद तक सुरक्षा मिल सके।

जंगल में तेंदुओं की बड़ी संख्या
जानकारों के मुताबिक, जब तक इन तेंदुओं को हटाया नहीं जाता तब तक चीतों को यहां नहीं लाया जा सकता। ऐसा इसलिए क्योंकि चीतों से ये काफी बड़े होते हैं और उन्हें घायल या मार भी सकते हैं। कुनो नेशनल पार्क में तेंदुओं का एरिया बहुत अधिक है। यहां के ग्रामीणों ने बताया कि हर 100 वर्ग किमी में 9 तेंदुए पाए जाते हैं। अगर चीते यहां आते हैं तो ऐसी आशंका है कि तेंदुए उन्हें निशाना बना सकते हैं। इसके पीछे मुख्य वजह शिकार को लेकर प्रतिस्पर्धा हो सकती है।

नामीबिया से लाए जाने वाले 12 चीतों के लिए बनाए गए बाड़े
वहीं प्रोजेक्ट की देखरेख कर रहे जिला वन अधिकारी प्रकाश वर्मा ने हमारे सहयोगी अखबार टीओआई को बताया कि उनके पास बैक-अप योजनाएं हैं। हम लेग-होल्ड ट्रैप के लिए जा सकते हैं। पशु चिकित्सक उन्हें शांत करने के लिए हाथियों या दूसरे गाड़ियों पर जा सकते हैं। प्रोजेक्ट पर दिन-रात काम कर रहे एसडीओ अमृतांशु सिंह ने डीएफओ से बात की है। परियोजना से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि तेंदुओं और चीतों के बीच संघर्ष हो सकता है, लेकिन बंद बाड़े से चीतों को सुरक्षा मिलेगी। तेंदुओं को रोकने के लिए लगाए गए बाड़ लगभग 12 किमी लंबी और 9 फीट ऊंची है, जिसके शीर्ष पर बिजली के ओवरहैंग हैं। पहले फेज में नामीबिया से लाए जाने वाले 12 चीतों को रखने के लिए बाड़े को आठ हिस्सों में बांटा गया है।

हर 2 किमी पर एक वॉच टॉवर, सीसीटीवी भी
परियोजना की कार्य योजना रिपोर्ट के मुताबिक, जंगल में बाघ, तेंदुओं और चीतों के बीच संघर्ष की संभावना जताई गई है। हालांकि, एक बार चीतों की आबादी यहां स्थापित हो जाएगी तो परस्पर संघर्ष और अवैध शिकार का ज्यादा खतरा नहीं होगा। फिलहाल जंगल में तेंदुओं की मौजूदा स्थिति स्पष्ट नहीं है। हाई-रेंज सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से 6 वर्ग किमी के बाड़े को चौबीसों घंटे नजर रखा जाएगा। हर 2 किमी पर एक वॉच टॉवर है। बाड़े 0.7 वर्ग किमी से लेकर 1.1 वर्ग किमी तक हैं। 38.7 करोड़ रुपये के बजट में से 6 करोड़ रुपये बाड़े, वहां पहुंचने वाले रास्ते और वन अधिकारियों के प्रशिक्षण पर खर्च किए जा रहे हैं।

RELATED ARTICLES

देश की छवि बिगाडऩे वालों पर केंद्र सख्त, 8 यूट्यूब चैनलों पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली। केंद्र सरकार देश के खिलाफ दुष्प्रचार फैलाने वाले यूट्यूब चैनलों के खिलाफ बड़े एक्शन के मूड में है। केंद्र ने आज राष्ट्रीय...

शिवराज सिंह चौहान को बीजेपी संसदीय बोर्ड से बाहर करना क्या मध्य प्रदेश के लिए है साफ संकेत?

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भाजपा की फैसले लेने वाली शीर्ष संस्था भाजपा संसदीय बोर्ड से बाहर कर दिया गया...

देश में खत्म हुआ तिरंगा अभियान, जानें झंडे को सम्मान के साथ रखने का तरीका, इन गलतियों से होता है अपमान

नई दिल्ली। देश में हर घर तिरंगा अभियान खत्म हो चुका है। स्वतंत्रता दिवस यानी 15 अगस्त के मौके पर पूरे देशभर में लोगों...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

जिलाधिकारी ने बद्रीनाथ धाम में चल रहे मास्टर प्लान के निर्माण कार्य का किया निरीक्षण

चमोली। जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने गुरूवार को बद्रीनाथ धाम में मास्टर प्लान तहत चल रहे निर्माण कार्यो का स्थलीय निरीक्षण किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने...

CM धामी ने ’रमणी जौनसार एवं ’जौनसार बावर के जननायक पं. शिवराम’ पुस्तक का किया विमोचन

देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को आई.आर.डी.टी सभागार, सर्वे चौक, देहरादून में जौनसार बाबर के प्रथम कवि पं. शिवराम जी द्वारा रचित...

देश की छवि बिगाडऩे वालों पर केंद्र सख्त, 8 यूट्यूब चैनलों पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली। केंद्र सरकार देश के खिलाफ दुष्प्रचार फैलाने वाले यूट्यूब चैनलों के खिलाफ बड़े एक्शन के मूड में है। केंद्र ने आज राष्ट्रीय...

दिल्ली हाईकोर्ट ने सीओए को सौंपी भारतीय ओलंपिक संघ की बागडोर, इन तीन खिलाडियों को मिली बड़ी जिम्मेदारी

नई दिल्ली। दिल्ली हाई कोर्ट ने भारतीय ओलंपिक संघ के मामलों को संभालने के लिए प्रशासकों की तीन सदस्यीय समिति के गठन का निर्देश...

UKSSSC पेपर लीक मामले में एसटीएफ के हाथ लगी एक और बड़ी सफलता, जूनियर इंजीनियर ललित राज शर्मा की हुई गिरफ्तारी

देहरादून। पेपर लीक मामले में एसटीएफ के हाथ लगी एक और सफलता। एसटीएफ ने लंबी पूछताछ के बाद धामपुर निवासी जूनियर इंजीनियर ललित...

शिवराज सिंह चौहान को बीजेपी संसदीय बोर्ड से बाहर करना क्या मध्य प्रदेश के लिए है साफ संकेत?

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भाजपा की फैसले लेने वाली शीर्ष संस्था भाजपा संसदीय बोर्ड से बाहर कर दिया गया...

पहली बार भारतीय सिनेमाघरों में हिंदी में रिलीज होगी नेपाली फिल्म प्रेम गीत 3

बीते कुछ सालों में दक्षिण भारतीय फिल्मों को हिंदी में रिलीज करने का ट्रेंड बढ़ा है। हिंदी के दर्शक भी इन फिल्मों को हाथोंहाथ...

राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने पुलिस लाइन में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव में किया प्रतिभाग

देहरादून। गुरुवार को पुलिस लाइन, देहरादून में आयोजित श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव कार्यक्रम में राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से.नि) ने बतौर मुख्य अतिथि एवं...

मुख्यमंत्री ने किया बोधिसत्व विचार श्रृंखला ‘बिन पानी सब सून’ संगोष्ठी को सम्बोधित

जल संरक्षण एवं संवर्धन के लिये समेकित प्रयासों की बतायी जरूरत। देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित सभागार में...

जो नहीं फंसे हैं उनको फंसाना है

हरिशंकर व्यास पिछले दिनों जब नीतीश कुमार ने भाजपा का साथ छोड़ा तो सोशल मीडिया में यह पोस्ट दिखाई दी कि अब केंद्र सरकार और...