Friday, February 3, 2023
Home ब्लॉग ध्यान खींच रहे मोटे अनाज

ध्यान खींच रहे मोटे अनाज

रवि शंकर
वर्तमान समय में देश-दुनिया में मोटे अनाजों को लगातार बढ़ावा दिया जा रहा है। सरकारी विज्ञापनों से लेकर संसद के मेन्यू तक हर जगह इनका जिक्र किया जा रहा है।
लोगों से अपने आहार में मोटे अनाजों को शामिल करने की अपील की जा रही है। मोटे अनाजों को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने 2023 को मिलेट अर्थात मोटा अनाज वर्ष घोषित किया है। बताते चलें कि इसका प्रस्ताव भारत ने ही रखा था और 72 देशों ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया था।  मोटे अनाजों के बारे में कहा जाता है कि इनकी फसलें प्रतिकूल मौसम को झेल सकती हैं। इन्हें ज्यादा पानी की जरूरत नहीं होती है। भारत के बारे में मशहूर है कि यहां हजारों साल से ये अनाज हमारे भोजन का अनिवार्य हिस्सा रहे हैं। हमारी पीढ़ी, जो पांच-छह दशक पहले बड़ी हो रही थी, में से बहुतों ने बचपन में गेहूं, ज्वार, बाजरा, जौ, मक्का आदि की चूल्हे पर सिंकी स्वादिष्ट रोटियां खूब खाई हैं।

बाजरे की खिचड़ी, रोटी और घी मिलाकर बनाए लड्डू, समा के चावल भी भोजन का हिस्सा रहे हैं। तब तो गेहूं की रोटी में भी चने का आटा मिलाकर खाया जाता था, जिसे मिस्सा आटा कहते थे। अकेले गेहूं की रोटी खाना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माना जाता था। सर्दियों में शायद ही कोई दिन होता था, जब मक्का या बाजरा की रोटी न बने, लेकिन गेहूं, चावल की पैदावार में क्रांति और इन्हें खाने वालों की आर्थिक हैसियत को ऊंची बताने के कारण मोटे अनाज हमारी थालियों से लगभग गायब हो गए। अरसे बाद जब ये सुपरफूड के रूप में विदेशों से लौटे और स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहने वाले धनाढ्य वर्ग की थाली की शोभा बढ़ाने लगे, तो फिर इनके प्रति दिलचस्पी बढ़ी। यह अच्छा ही हुआ। फिलहाल सरकार भी इनके उत्पादन के लिए किसानों को प्रोत्साहित कर रही है। खान-पान में इन अनाजों को शामिल करने की बात लगातार की जा रही है। मालूम हो, लम्बे समय से मोटे अनाजों की खेती को मुख्य धारा में लाने के लिए कोशिश की जा रही है।

सवाल अहम यह है कि भारत सहित दुनिया के देश मोटे अनाज की खेती पर जोर क्यों  दे रही है? जवाब स्पष्ट है, तेजी से हो रहा जलवायु परिवर्तन और बढ़ती जनसंख्या चिंता की बात है, ऐसे में फसलों के उत्पादन में कमी आएगी और खाद्य पदार्थों की मांग में बढ़ोतरी जिसके कारण सभी के लिए खाद्य पदार्थों की आपूर्ति करना बड़ी चुनौती हो सकती है। जलवायु परिवर्तन के कारण भविष्य में सूखा और अकाल पडऩे जैसी घटनाएं सामान्य हो जाएंगी। मोटे अनाजों की खेती करके अकाल और सूखे की स्थिति से आसानी से निपटा जा सकता है। भारत दुनिया के उन सबसे बड़े देशों में शामिल है जहां सबसे ज्यादा मोटे अनाज की पैदावार होती है। भारत दुनिया के कई देशों को मोटे अनाज का निर्यात करता है। इनमें संयुक्त अरब अमीरात, नेपाल, सऊदी अरब, लीबिया, ओमान, मिस्र, ट्यूनीशिया, यमन, ब्रिटेन तथा अमेरिका शामिल हैं। मोटे अनाजों में भारत सबसे ज्यादा बाजरा, रागी, कनेरी, ज्वार और कुट्टू को एक्सपोर्ट करता है। वैश्विक उत्पादन में लगभग 41 प्रतिशत की अनुमानित हिस्सेदारी के साथ भारत दुनिया में बाजरा के अग्रणी उत्पादकों में शुमार है।

इसके बावजूद मोटे अनाजों से बने उत्पाद- बेबीफूड, बेकरी, ब्रेकफास्ट, रेडी टू ईट फूड, रेडी टू कुक, रेडी टू सर्व, वेवरीज और पशु आहार बेचकर चीन दुनिया में मोटी कमाई कर रहा है। यह तब है जब वह दुनिया का मात्र 9 फीसदी ही मोटा अनाज पैदा करता है। खैर, केंद्र सरकार ने बाजरा सहित संभावित उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने तथा पोषक अनाजों की आपूर्ति श्रृंखला की बाधाओं को दूर करने के लिए पोषक अनाज निर्यात संवर्धन फोरम का गठन किया है। मोटे अनाज की कैटेगरी में ज्वार, बाजरा, रागी (मडुआ), जौ, कोदो, सामा, बाजरा, सांवा, कुटकी, कांगनी और चीना जैसे अनाज आते हैं। इन अनाजों के सेवन से मोटापा, दिल की बीमारियां, टाइप-2 डायबिटीज और कैंसर का खतरा घटाता है। इनमें कई गुना अधिक पोषक तत्व पाए जाते हैं। यही वजह है कि मोटे अनाज को सुपर फूड भी कहा जाता है। मोटे अनाज में सिर्फ  फाइबर ही नहीं, बल्कि विटामिन-बी, फोलेट, जिंक, आयरन, मैग्नीशियम, आयरन और कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं।

मोटे अनाज जहां सेहत के लिए रामबाण हैं तो दूसरी तरफ खेती करने वाले किसानों के लिए भी फायदेमंद हैं। मोटे अनाजों की खेती करके जलवायु परिवर्तन, ऊर्जा संकट, भू-जल हृास, स्वास्थ्य और खाद्यान्न संकट जैसी समस्याओं को काबू में किया जा सकता है। हम उम्मीद कर सकते हैं कि भारत 2023 में जी-20 की अध्यक्षता करते हुए अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष 2023 के उद्देश्यों और लक्ष्यों के मद्देनजर देश और दुनिया में मोटे अनाजों के लिए जागरूकता पैदा करने में सफल होगा और इससे मोटे अनाज का वैश्विक उत्पादन बढ़ेगा, मोटे अनाज का वैश्विक उपभोग बढ़ेगा। साथ ही, कुशल प्रसंस्करण एवं फसल चक्र का बेहतर उपयोग सुनिश्चित होगा। भारत द्वारा वर्ष 2023 में मोटा अनाज वर्ष के तहत मोटे अनाजों के प्रति जागरूकता की प्रभावी रणनीति से एक बार फिर मोटे अनाज को देश के हर व्यक्ति की थाली में अधिक जगह मिलने लगेगी।

RELATED ARTICLES

तुलसी कृत रामचरितमानस क्या ?

अजय दीक्षित बिहार के शिक्षा मंत्री चन्द्रशेखर, हिन्दी के मूर्धन्य साहित्यकार एवं भाषा- मर्मज्ञ त्रिलोचन शास्त्री को, नहीं जानते होंगे । मंत्री जी काव्य के...

जोशीमठ में त्रासदी – कौन जिम्मेदार

अजय दीक्षित उत्तराखण्ड के जोशीमठ में हजारों मकानों में दरारों की प्राकृतिक आपदा के लिए प्रकृति कम और शासन तंत्र ज्यादा जिम्मेदार है। प्रकृति से...

शराबबंदी : योजनाओं को सही दिशा देनी होगी

डॉ. भीम सिंह भवेश हफ्ते भर पहले बिहार में एक माह के अंदर दूसरी बार जहरीली शराब से हुई मौतों ने आमजन के साथ ही...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया मिशन ड्रग्स फ्री देवभूमि का शुभारम्भ

मिशन ड्रग्स फ्री देवभूमि को जन अभियान बनाने के लिए मुख्यमंत्री ने किया प्रदेश के युवाओं का आह्वाहन युवा नशे को दृढ़ता से कहें ना-...

फरवरी में भी लगातार क्रिकेट खेलगी टीम इंडिया, सामने आया पूरे महीने का शेड्यूल

नई दिल्ली। नए साल का पहला महीना पूरा समाप्त हो चुका है और इस महीने और पिछले कुछ महीनों से टीम इंडिया लगातार क्रिकेट खेल...

राजधानी दिल्ली में बने मध्यप्रदेश सरकार के नए भवन का आज शाम सीएम शिवराज करेंगे उद्घाटन

मध्य प्रदेश। देश की राजधानी दिल्ली में बने मध्यप्रदेश सरकार के नए आशियाने का आज यानि की गुरुवार को शाम 6:30 बजे सीएम शिवराज सिंह...

स्कूली बच्चों का तनाव कम करने के उद्देश्य से माह में एक दिन होगा बैग फ्री डे – डॉ. धन सिंह रावत

देहरादून। प्रदेश के शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि स्कूलों में बच्चों के भारी-भरकम बस्तों का बोझ कम करने के लिए राज्य...

वृद्धावस्था पेंशन के रुपये नहीं देने पर बेटे ने की अपनी मां की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या

झूलाघाट। पड़ोसी देश नेपाल के कैलाली जिले के लम्कीचुहा नगरपालिका में वृद्धावस्था पेंशन के रुपये नहीं देने पर एक व्यक्ति ने अपनी मां की कुल्हाड़ी...

भारत के स्वर्णिम भविष्य की नींव है बजट- डॉ0 धन सिंह रावत

देहरादून। केन्द्र सरकार के बजट को कैबिनेट मंत्री डॉ0 धन सिंह रावत ने ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय बजट को भारत के स्वर्णिम भविष्य...

मोबाइल फोन के ज्यादा इस्तेमाल से दिमाग पर पड़ सकते हैं ये 5 नकारात्मक प्रभाव

आज के समय में मोबाइल फोन जीवन की हर समस्या का समाधान बन गया है। आप चाहें अपने मन को बहला रहे हों या...

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में प्रधानमंत्री आवास योजना से 65 हजार लोग लाभान्वित

श्रीनगर। जम्मू एवं कश्मीर के राजौरी और पुंछ जिलों के लाखों लोग अभी भी गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे हैं। कुछ साल...

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने नई भर्ती के लिए मांगे आवेदन, अंतिम तारीख 20 फरवरी 2023

लेखपाल भर्ती परीक्षा के लिए मुफ्त यात्रा का आदेश हुआ जारी हरिद्वार। उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने सहायक नियोजक एवं सहायक वास्तुविद नियोजक परीक्षा 2023 के...

निमृत कौर अहलूवालिया बनी बिग बॉस 16 के फिनाले में पहुंचने वाली पहली कंटेस्टेंट

टेलीविजन अभिनेत्री निमृत कौर अहलूवालिया विवादित रिएलिटी शो बिग बॉस 16 के फिनाले में पहुंचने वाली पहली प्रतियोगी हैं। वह नवीनतम एपिसोड में एक...