Breaking News
सीएम धामी ने जन समस्याओं के त्वरित समाधान के लिये अधिकारियों को दिये निर्देश
दिल्ली में केदारनाथ मंदिर के प्रतीकात्मक निर्माण को लेकर तीर्थपुरोहितों में आक्रोश
बार-बार सर्दी जुकाम सिर्फ इम्युनिटी कमजोर होने के लक्षण नहीं बल्कि इन बीमारियों के हो सकते हैं संकेत
डोनाल्ड ट्रंप पर की गई गोलीबारी, एक शूटर को सीक्रेट सर्विस ने मार गिराया
अमरनाथ नंबूदरी बने श्री बदरीनाथ धाम के प्रभारी रावल
पैथोलॉजी लैब संचालिका के साथ दुष्कर्म के प्रयास के मामले में राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने लिया संज्ञान 
उपचुनाव में भाजपा को बड़ा झटका, जानिए 13 विधानसभा सीटों का फाइनल रिजल्ट
देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने जीता स्कॉच अवार्ड 2024
महासंघ ने कठुआ हमले में शहीदों की याद में किया वृक्षारोपण

अयोध्या में रामपथ धंसने पर नाराज सीएम योगी ने PWD के 3 इंजीनियरों को किया सस्पेंड

अयोध्या। राम मंदिर को बने अभी कुछ ही महीने बीते हैं. वहीं शुक्रवार को हुई बारिश ने अयोध्या के विकास को लेकर किए गए तमाम दावों की पोल खोल दी. बारिश के बाद अयोध्या का रामपथ जगह-जगह से धंस गया वहीं सड़कों पर बड़े-बड़े गड्डे हो गए. जिसके बाद योगी सरकार पर सवाल उठने लगे. इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने PWD के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, AE और JE को सस्पेंड कर दिया गया है. इस मामले को लेकर जांच के आदेश दिए गए हैं और जल्द से जल्द इसकी रिपोर्ट मांगी है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या के रामपथ के निर्माण के दौरान हुए भ्रष्टाचार पर कड़ा एक्शन लेते हुए एग्जीक्यूटिव इंजीनियर ध्रुव अग्रवाल, असिस्टेंट इंजीनियर अनुज देशवाल और जूनियर इंजीनियर प्रभात पांडे को सस्पेंड कर दिया है. सीएम योगी अयोध्या के विकास में की गई लापरवाही को लेकर किसी क भी बरतने वाले नहीं हैं।

13 किमी लंबा रामपथ बारिश के धंसा
राम मंदिर के उद्घाटन से कुछ समय पहले ही रामपथ का निर्माण पूरा हुआ था. इसका निर्माण बड़ी संख्या अयोध्या पहुंचने वाले रामभक्तों की सुविधा के लिए किया गया था. लेकिन बारिश के चलते 13 किलोमीटर लंबे रामपथ की सड़कों पर कई जगहों पर गड्ढे हो गए.

1 जुलाई से पांच पुजारियों की जगह 25 पुजारी रामलला की सेवा करेंगे. रविवार को चार अलग-अलग समूहों में पुजारियों की सूची घोषित की जाएगी. कल सभी प्रशिक्षित 20 पुजारियों को रामलला की सेवा में नियुक्ति के लिए पत्र भी प्रदान किए जाएंगे. साथ ही उनके प्रशिक्षण का प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा. इसके अलावा पुजारियों को उनकी सेवा के बदले वेतन निर्धारण की जानकारी भी दी जाएगी।

बैठक में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के कोषाध्यक्ष महंत गोविंद देव गिरि, तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय, ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्र, मंदिर निर्माण प्रभारी गोपाल राव, दिल्ली के प्रोफेसर जयकांत मिश्र, रामकथा कुंज के पीठाधीश्वर डॉ. रामानंद दास महाराज, उनके उत्तराधिकारी महंत सत्यनारायण दास और हनुमत निवास महंत आचार्य मिथिलेश नंदिनी शरण महाराज शामिल होंगे. ये बैठक रामकोट स्थित नए आवासीय कार्यालय में प्रस्तावित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top