Breaking News
सीएम धामी ने जन समस्याओं के त्वरित समाधान के लिये अधिकारियों को दिये निर्देश
दिल्ली में केदारनाथ मंदिर के प्रतीकात्मक निर्माण को लेकर तीर्थपुरोहितों में आक्रोश
बार-बार सर्दी जुकाम सिर्फ इम्युनिटी कमजोर होने के लक्षण नहीं बल्कि इन बीमारियों के हो सकते हैं संकेत
डोनाल्ड ट्रंप पर की गई गोलीबारी, एक शूटर को सीक्रेट सर्विस ने मार गिराया
अमरनाथ नंबूदरी बने श्री बदरीनाथ धाम के प्रभारी रावल
पैथोलॉजी लैब संचालिका के साथ दुष्कर्म के प्रयास के मामले में राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने लिया संज्ञान 
उपचुनाव में भाजपा को बड़ा झटका, जानिए 13 विधानसभा सीटों का फाइनल रिजल्ट
देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने जीता स्कॉच अवार्ड 2024
महासंघ ने कठुआ हमले में शहीदों की याद में किया वृक्षारोपण

अक्सर पैर और कमर में रहता है दर्द तो हो सकती है इस विटामिन की भारी कमी

औरतों को अक्सर कमर और पैर में दर्द की शिकायत होती है। ज्यादा देर तक बैठने या खड़े होकर काम करने के कारण औरतों को हड्डियों में अक्सर दर्द होता है। इसका सबसे बड़ा कारण है शरीर में विटामिन डी और पोषक तत्वों की कमी. उम्र बढऩे के साथ-साथ शरीर में विटामिन डी की कमी होने लगती है जिसका असर हड्डियों पर पड़ता है।

शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर क्या-क्या हो सकता है?
शरीर में विटामिन डी की कमी होने के कारण हड्डियों को दर्द, जोड़ों में दर्द और हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा काफी ज्यादा बढ़ता है। प्रेग्नेंसी के बाद खासतौर पर महिलाएं कमजोर हो जाती हैं. इसके कारण शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने लगती है। विटामिन डी की कमी होने पर शरीर पर साफ लक्षण दिखाई देते हैं. आप इनकी लक्षणों की पहचान करके इससे ऐसे ठीक कर सकते हैं।

विटामिन डी के कारण क्या-क्या दिक्कत हो सकती है
कई रिसर्च यह बात सामने आई है कि विटामिन डी की कमी के कारण हार्ट फेल होने की संभावना बढ़ जाती है. हार्ट फेल, हार्ट अटैक, स्ट्रोक, डायबिटीज के साथ बीपी जैसी गंभीर बीमारी का खतरा काफी ज्यादा बढ़ जाता है। प्रेग्नेंसी में विटामिन डी की कमी होने से प्री एक्लेप्सिया, गेस्टेशनल डायबिटिज का खतरा काफी ज्यादा बढ़ जाता है। इसके कारण हड्डियां कमजोर होकर टूटने की संभावना हो जाती है।

जब एक महिला के शरीर में विटामिन डी की कमी होती है ऐसे दिखते हैं लक्षण

बीमार पडऩा
शरीर में विटामिन डी की कमी का सीधा असर इम्युनिटी पर पड़ता है। जिन महिलाओं के शरीर में विटामिन डी की कमी होने लगती है वह जल्दी-जल्दी बीमारी पड़ती हैं। उनके शरीर पर कोई भी वायरस और बैक्टीरिया बहुत जल्दी हमला करता है. उन्हें सर्दी-खांसी और जुकाम, बुखार भी काफी ज्यादा होता है।

हड्डी में दर्द
विटामिन डी की कमी के कारण हड्डियां कमजोर हो जाती है. हड्डियों को मजबूत रखने के लिए  कैल्शियम और विटामिन डी की जरूरत पड़ती है. विटामिन डी के कारण बोन डेंसिटी भी कम होती है. जिससे हड्डियों के टूटने का खतरा कम होता है।

थकान और कमजोरी
उम्र बढऩे के साथ-साथ महिलाओं को थकान और कमजोरी होने लगती है। ऐसे वक्त में विटामिन डी की बहुत जरूरत पड़ती है. विटामिन डी की कमी होने पर शरीर में ब्लड का शुगर लेवल भी कम होने लगता है।

जख्म भरने में देरी
अगर किसी महिला के शरीर में विटामिन डी की कमी है तो चोट लगने पर जख्म जल्दी भरता नहीं है। अगर कोई रिकवरी या सर्जरी हुई है तो वैसे लोगों विटामिन डी की बेहद जरूरी होती है।

विटामिन डी कमी कैसे पूरी करें
भारत में ज्यादातर लोग विटामिन डी की कमी से जूझ रहे हैं. खासतौर पर महिलाएं विटामिन डी की कमी को जोखिम उठा रही है। विटामिन डी के लिए सबसे जरूरी है सुबह की धूप। अगर शरीर को धूप नहीं लग रही है तो आप विटामिन डी से भरपूर खाना खाएं. जैसे- सीफूड, प्लांट बेस्ड फूड, डेयरी प्रोडक्ट, अंडा और संतरा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top